क्या होता है पावर वीडर? जानिए भारत के टॉप 5 पावर वीडर

Published on: 04-Apr-2023

खेती किसानी में ऐसी कई सारी दिक्कतें हैं जिनका किसान भाइयों को समय-समय पर सामना करना पड़ता है। जैसे फसल के साथ खरपतवार का उगना आम बात है। जिसके निराकरण के लिए किसानों को खेत में निराई गुड़ाई करना होती है। 

इससे किसानों को खरपतवार से छुटकारा मिलता है और फसल की वृद्धि तेजी के साथ होती है। लेकिन खेत से खरपतवार को हटाना एक महंगा और पेचीदा सौदा है, क्योंकि इसके लिए मजदूरों की जरूरत पड़ती है और कई बार मांग के हिसाब से मजदूर नहीं मिल पाते। 

अगर मिलते भी हैं तो उन्हें ज्यादा मजदूरी भुगतान करनी पड़ती है जिससे किसानों की खेती की लागत बढ़ जाती है। इससे निपटने के लिए बाजार में इन दिनों एक मशीन आ रही है, जिसे पावर वीडर के नाम से जाना जाता है। 

यह यंत्र देखने में पावर टिलर जैसा होता है जो खेत में किसानों और मजदूरों की मेहनत को कम करता है। इसका इस्तेमाल निराई गुड़ाई के लिए किया जाता है। 

मुख्यतः जिस जगह में ट्रैक्टर नहीं पहुंच पाता वहां पर निराई गुड़ाई के लिए यह बेहद उपयोगी यंत्र है। यह खेत में खरपतवार प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

इन कार्यों के लिए उपयोग किया जाता है पावर वीडर

पावर वीडर का सबसे पहला उपयोग खेत में निराई गुड़ाई करके खरपतवार को नष्ट करना है। इसके साथ ही यह यंत्र खरपतवार को काटकर पूरी तरह से मिट्टी में मिला देता है। छोटे खेत की जुताई के साथ ही खेत में मिट्टी चढ़ाने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है। 

इसके साथ ही मिट्टी का समतलीकरण करना, जुताई के साथ खेत में मेढ़ बनाकर खेती के लिए भूमि तैयार करना और मिट्टी की उर्वरता को बनाए रखना इसके अन्य कार्य हैं। 

ये भी पढ़े: २०२२-२३ के लिए कृषि यंत्रों पर अनुदान प्राप्त करने के लिए आवेदन की प्रकिया जारी : डा. कर्मचंद, हरियाणा

ये हैं पावर वीडर यंत्र की विशेषताएं

इस यंत्र का उपयोग विशेष तौर पर बागवानी फसलों में किया जाता है। इस यंत्र की सहायता से गन्ना, कपास, मक्का, केला, नारियल, सब्जियों आदि फसलों से खरपतवार को पूरी तरह से नष्ट किया जाता है। 

यह आकार में छोटा होता है इसलिए इसका इस्तेमाल हर तरह की जमीन में आसानी से किया जा सकता है। समतल खेत से लेकर ऊबड़ खाबड़ जमीन में यह बेहद प्रभावी होता है।

पावर वीडर यंत्र से किसानों को होते हैं ये लाभ

यह एक ऐसा उपकरण है जो फसलों को बिना नुकसान पहुंचाए अपना काम पूरी तरह से करता है। साथ ही इसको खरीदने पर किसान को निराई गुड़ाई के लिए श्रमिकों की जरूरत नहीं होती, जिससे कृषि लागत में कमी आती है। 

इसके उपयोग के बाद खेत में हानिकारक रासायनिक खरपतवारनाशी का प्रयोग नहीं करना पड़ता। यह अवांछित घास को बेहद सफाई से हटाता है। साथ ही कृषि कार्य में लगने वाले समय की बचत करता है।

इतनी होती है पावर वीडर की कीमत

भारत में पावर वीडर फिलहाल 2 प्रकार के आते हैं। पहला डीजल से चलने वाला पावर वीडर और दूसरा पेट्रोल चलने वाला पावर वीडर। पावर वीडर की कीमत जगह और शहर के ऊपर निर्भर करती है। 

यह अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग हो सकती है। इसके साथ ही ऑटोमेटिक,सेमि-ऑटोमेटिक के आधार पर की इस यंत्र की कीमतें भिन्न होती हैं। लेकिन यदि हम देखें तो पावर वीडर की शुरुआती कीमत 10 हजार रुपये होती है जो 1.50 लाख रुपये तक जा सकती है।

खरपतवार को नष्ट करने के लिए ऐसे करते है पावर वीडर का उपयोग

पावर वीडर का इस्तेमाल करने के पहले यह सुनिश्चित कर लें की खेत की मिट्टी में नमी की मात्रा कम से कम 20 प्रतिशत हो। साथ मशीन चलाने से पहले मशीन की अच्छे तरह से जांच कर लें। 

इसके बाद हाथों की सहायता से धीरे-धीरे खरपतवार वाली लाइन में पावर वीडर को चलाएं। जब यह मशीन खरपतवार को नष्ट करके खाद में बदल दे तो उसके बाद मिट्टी को सूखने दें।

ये हैं भारत के टॉप 5 पावर वीडर

  1. वीएसटी शक्ति FT50 जोश

यह वजन में बेहद हल्का पावर वीडर है जो मात्र 83 किलोग्राम वजन के साथ आता है। यह पेट्रोल से चलने वाला है जिसमें कंपनी ने शक्तिशाली गियरबॉक्स दिया है। इसमें 5 हॉर्सपावर का इंजन लगा है। जो समतल भूमि में बेहद अच्छे से कार्य करता है।

  1. वीएसटी एमटी 50 जीई

यह बाजार में आने वाले पावर वीडरों में से सबसे अच्छा पावर वीडर माना जाता है। यह भी 5 हॉर्सपावर के पेट्रोल इंजन के साथ आता है। इस मशीन में 3.6 लीटर की ईंधन टैंक उपलब्ध करवाया गया है। 

इस यंत्र का कुल भार 66 किलोग्राम है। वीएसटी एफटी50 जीई पावर वीडर बागवानी फसलों और रोपण फसलों के लिए बनाया गया है। जिसमें यह बेहद उम्दा परिणाम देता है।

  1. पबर्ट टिलर एआरओ प्रो 55P C3

यह एक पावर वीडर 6 हॉर्सपावर के साथ आता है। यह मशीन हर तरह के मौसम और हर तरह के खेतों और फसलों के लिए उपयुक्त है। यह भी पेट्रोल से चलता है, इसका इंजन एक घंटे में 600 मिलीलीटर ईंधन की खपत करता है। 

ये भी पढ़े: रोटरी हार्वेस्टर मशीन पर 80 प्रतिशत सब्सिडी दे रही है ये राज्य सरकार, यहां करें आवेदन

  1. श्राची 105G

यह पेट्रोल से चलने वाला पावर वीडर है जो 6 से लेकर 8 इंच गहराई तक निराई गुड़ाई करता है। इसमें 18 से लेकर 32 ब्लेड तक आती हैं। यह एक भारी पावर वीडर है जिसका वजन 105 किलोग्राम है। यह एक घंटे में 750 मिलीलीटर ईंधन की खपत करता है।

  1. वीएसटी मेस्ट्रो 55P

यह पावर वीडर 5.6 हॉर्सपावर इंजन के साथ आता है। यह अन्य यंत्रों की अपेक्षा ईंधन की खपत कम करता है। साथ ही यह पावर वीडर भी हर तरह की फसल के लिए उपयोगी है।

श्रेणी