ब्रीडिंग फार्म खोलकर पशुपालक हो रहे हैं मालामाल, जाने कैसे कर सकते हैं आप यह बिजनेस

By: MeriKheti
Published on: 12-Jan-2023

भारत में किसान काफी पहले से खेती के साथ-साथ पशुपालन भी करते रहे हैं। पशु पालन करते हुए किसान अलग-अलग तरह से आमदनी कमा सकते हैं। आजकल दूध डेयरी प्रोडक्ट की डिमांड काफी ज्यादा बड़ी है। इस बढ़ती हुई डिमांड के कारण ही पुराने किसान और बहुत से नए लोग भी डेयरी फार्मिंग (Dairy farming) के बिजनेस में बहुत ज्यादा रुचि ले रहे हैं। इसके अलावा जो लोग पहले से इस बिजनेस में लगे हुए हैं, वह सभी भी बढ़-चढ़कर अपने बिजनेस को फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। दूध-डेयरी उत्पादों की साल भर डिमांड रहती है, इसलिए यह बिजनेस फायदे का सौदा साबित हो रहा है। आने वाले समय में दूध और डेयरी उत्पादों की ज्यादा खपत का अनुमान है। ऐसे में यदि आप डेयरी फार्मिंग कर रहे हैं, तो साथ में एक ब्रीडिंग फार्म भी खोल सकते हैं, जिसके लिए सरकार आर्थिक मदद भी देती है।

क्यों जरूरी है पशुओं की ब्रीडिंग

इस फील्ड से जुड़े हुए एक्सपर्ट से बात करने पर पता चलता है, कि पशुओं की ग्रेडिंग करने का सबसे मुख्य उद्देश्य उनके उत्पादन में वृद्धि करना है। इसके अलावा इस बात पर खास ध्यान देने की जरूरत है, कि आप जो भी उत्पादन कर रहे हैं उसमें गुणवत्ता का खास ख्याल रखा जाए। इस तकनीक के जरिए आप विलुप्त मवेशियों की प्रजातियों को भी पुनर्जीवित कर सकते हैं और ऐसा किया भी जा रहा है। कई संस्थाएं गाय, भैंस, बकरी, मुर्गी, सूअर और बत्तख आदि पशुओं की देसी और पुरानी नस्लों का कृत्रिम गर्भाधान करवाके उनका संरक्षण और संवर्धन कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें:
पशु प्रजनन की आधुनिक तकनीक (Modern Animal Breeding Technology in Hindi)

ब्रीडिंग फार्म क्या है?

हमेशा से ही हमारे देश में दूध की डिमांड बहुत ज्यादा रही है, जिसके चलते देश में दूध का उत्पादन बढ़ाने को लेकर भी कोशिशें की जा रही हैं। बहुत से पशुपालक अच्छी नस्ल के पशुओं को खरीदकर अपने डेयरी फार्म बिजनेस को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। इस तरह के डेरी फॉर्म में पशुपालकों का सबसे पहला उद्देश्य दूध उत्पादन होता है। इसलिए अगर उन्हें पशुओं की नस्ल में कुछ कमी दिखती है, तो वह उन्हें बदलने से झिझकते नहीं है। ये भी देखें: गाय-भैंस की देशी नस्लों का संरक्षण करने वालों को मिलेगा 5 लाख का ईनाम, ऐसे करें आवेदन अगर डेयरी फार्म की बात की जाए तो यहां पर केवल इस बात पर ध्यान दिया जाता है, कि दूध की सप्लाई लगातार बनी रहे। लेकिन ब्रीडिंग फार्म में अच्छी गुणवत्ता के पशुओं की संख्या बढ़ाने पर ध्यान दिया जाता है। इसमें अच्छी नस्ल को प्रमोट करते हुए ब्रीडिंग के जरिए पशुओं की संख्या बढ़ाई जाती है। यहां पर डेयरी फार्म बिजनेस वालों के पास एक फायदा है, कि अगर उनके पास पहले से अच्छी नस्ल के पशु मौजूद हैं। तब वह उन्हीं के जरिए ब्रीडिंग फार्म खोल सकते हैं और अच्छी गुणवत्ता वाले पशुओं की संख्या बढ़ा सकते हैं। अब यदि डेयरी फार्म में पशुपालकों के पास पहले से ही अच्छी नस्ल है, तो ब्रीडिंग फार्म के जरिए पशुओं की संख्या बढ़ा सकते हैं। पशु विशेषज्ञ, डॉ. रोहित गुप्ता बताते हैं, कि 'ब्रीडिंग फार्म में पशुओं का मल्टीप्लीकेशन किया जाता है। यहां अच्छे जीन को प्रोपगेट किया जाता है, ताकि अच्छे दूध देने वाले पशु की संख्या बढ़ाई जा सके। गुड क्वालिटी एनिमल को प्रमोशन मिले। ब्रीडिंग फार्म में हर एक पशु के बारे में पूरी तरह से रिकॉर्ड रखे जाते हैं और साथ ही उनकी हिस्ट्री भी मेंटेन की जाती है। जिसमें पशु की मां और सिबलिंग की सेहत, दूध की मात्रा और प्रजनन क्षमता के बारे में भी लिखा होता है। जिन पशुओं का रिकॉर्ड अच्छा रहता है, उन्हीं की ब्रीडिंग होती है और उनसे पैदा होने वाले नौनिहाल डेयरी फार्म्स का फ्यूचर (Future) बनते हैं। यदि आप डेयरी फार्म के साथ ब्रीडिंग का काम भी कर रहे हैं, ज्यादा जगह की आवश्यकता नहीं होगी। इस मामले में कृषि विज्ञान केंद्र, जालंधर के पशु विशेषज्ञ डॉ. रोहित गुप्ता बताते हैं, कि एक 'ब्रीड मल्टीप्लिकेशन फार्म' में पशुओं के खाने, पीने से लेकर बीमारी, घूमने-फिरने का ध्यान रखकर कंफर्टेबल वातावरण दिया जाता है। जिसे वैज्ञानिक विधि से पशुपालन भी कहते हैं। अगर आप एक बिल्डिंग फॉर्म शुरू करना चाहते हैं, तो आप इसे 20 पशुओं के साथ आसानी से शुरू कर सकते हैं। यदि आप डेयरी फार्मिंग कर रहे हैं, तो अपनी अच्छी नस्लों की हिस्ट्री का रिकॉर्ड रखते हुए ब्रीडिंग फार्म भी खोल सकते हैं।

मादा पशु हैं डेयरी-ब्रीडिंग फार्म का भविष्य

देश में हमेशा से ही अच्छा दूध देने वाले पशुओं की नस्ल की मांग रही है। पशु विशेषज्ञ डॉ. रोहित गुप्ता बताते हैं कि एक मादा मवेशी ही गर्भधारण करती है और दूध देती है। इसलिए राष्ट्रीय गोकुल मिशन के तहत सेक्स सॉर्टेट सीमेन को प्रमोट किया जा रहा है। जिससे मादा पशु के पैदा होने की संभावना 90 से 95 फीसदी तक होती है। इस स्कीम के तहत इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) के तहत अच्छी गुणवत्ता के पशु पैदा किए जा रहे हैं।

अच्छे ब्रीडिंग फार्म का रजिस्ट्रेशन जरूरी

इस बिज़नेस में धोखाधड़ी की संभावनाएं बहुत ज्यादा है। बहुत से लोग अच्छी नस्ल का पशु बोलकर ऐसे पशु बेच देते हैं, जिनकी सेहत और प्रजनन क्षमता इतनी अच्छी नहीं होती है। आपको उनसे ना तो अच्छी नस्ल के पशु मिल पाते हैं और ना ही अच्छा दूध उत्पादन ही हो पाता है। ये भी देखें: पशु संबंधित इस व्यवसाय से आप मोटा मुनाफा कमा सकते हैं आप चाहते हैं, कि आपका ब्रीडिंग फार्म अच्छी तरह चलता रहे। साथ ही, अच्छी क्षमता वाले उन्नत नस्ल के पशुओं को दूसरे पशुपालक भी पसंद करके बेझिझक खरीद लें। तो रजिस्ट्रार कॉर्पोरेटिव सोसाइटी से रजिस्टर करवाएं और पशुपालन विभाग से एक्रेडेशन लें। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि सरकार की तरफ से तमाम योजनाओं का लाभ ले पाएंगे। सरकारी योजनाओं से सब्सिडी मिल पाएगी और पशुपालक को भी बिजनेस और ग्राहक को पशु खरीदने पर सिक्योरिटी रहेगी।

क्या है कमाई की संभावनाएं

इस व्यवसाय में आपको फायदा तभी होगा जब आप अच्छी नस्ल के पशुओं को रखेंगे और पशुओं में यह क्वालिटी बनाए रखेंगे। इसके अलावा जरूरी है, कि आप अपने पशुओं से जुड़े हुए सभी तरह के रिकॉर्ड अच्छी तरह से संभाल कर रखें। यदि मुनाफा कमाने का सोच रहे हैं, तो 3 से 5 साल का समय लग सकता है। एक बार ब्रीडिंग फार्म जम जाए तो हर साल 10 दुधारु पशुओं की बिक्री कर सकते हैं।

ब्रीडिंग फार्म के लिए आर्थिक मदद

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कुछ दिन पहले ही केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री संजीव बालियान ने जानकारी दी कि ब्रीडिंग फार्म बिजनेस के लिए सरकार 50% सब्सिडी देने की योजना बना रही है। यदि आप गाय, भैंस, बकरी, सूअर और मुर्गी के ब्रीडिंग फार्म पर 4 करोड़, 1 करोड़, 60 लाख या 50 लाख खर्च करते हैं। तो राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना का लाभ लेकर 50% अनुदान हासिल कर सकते हैं।

कहां से मिलेगी जानकारी

सरकार ने हर एक जिले में जगह-जगह पर पशुपालन विभाग या फिर डेयरी विभाग के कार्यालय खोले हैं। आप अपने नजदीकी पशु पालन विभाग में जाकर इस बिजनेस से जुड़ी हुई सारी जानकारी ले सकते हैं। वहां मौजूद वेटनरी डॉक्टर आपको तकनीकी सहयोग भी करेंगे। यहां पर आपको सरकार की तरफ से दी गई सभी सुविधाओं के बारे में पूरी तरह से जानकारी देने के लिए पशुपालन अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। अपने जिले के कृषि विज्ञान केंद्र से आप ब्रीडिंग फार्म खोलने के लिए ट्रेनिंग और अन्य तकनीकी जानकारियां भी हासिल कर सकते हैं। यदि सही जानकारी के साथ ब्रीडिंग फार्म चालू करेंगे तो निश्चित ही मुनाफा होगा।

भारतीय नस्लों ने विदेश में बढ़ाया दूध

रिपोर्ट के मुताबिक बहुत सी ऐसी देसी गाय की नस्ल हैं जो भारतीय है, लेकिन उन्होंने विदेशों में भी दूध में उत्पादन बढ़ा दिया है। पशु विशेषज्ञ डॉ. रोहित गुप्ता बताते हैं, कि ब्राजील ने भारत की गिर नस्ल (गुजरात) की गाय और ऑस्ट्रेलिया ने साहीवाल नस्ल (पंजाब) की गाय की सलेक्टिव ब्रीडिंग के जरिए दूध का उत्पादन बढ़ा लिया है। ये भी देखें: बिना गाय और भैंस पालें शुरू करें अपना डेयरी सेंटर 1970 के दशक से ही हम वाइट रिवोल्यूशन का हिस्सा रहे हैं और बहुत सी विदेशी नस्लों के साथ हमने अपने देसी ब्रीड का क्रॉस ब्रीडिंग किया है। जिससे पशुओं की नस्लों में काफी अच्छा सुधार आया है। आज इस बात को लगभग 50 साल बीत गए हैं और हमने काफी पशुओं को क्रॉस ब्रीड करते हुए चेंज कर लिया है। इसके अलावा बहुत सी रिसर्च में अब यह भी पता चल रहा है, कि भारत की देसी नस्ल में भी दूध में ज्यादा पोषण है और उसकी गुणवत्ता भी ज्यादा अच्छी है। इसी रिचार्ज के चलते अब राष्ट्रीय गोकुल मिशन चलाया जा रहा है, जिसमें देसी नस्ल के पशुओं को ज्यादा से ज्यादा प्रमोट किया जा रहा है। इस तरह से आप पूरी जानकारी लेते हुए यह बिजनेस आसानी से शुरू कर सकते हैं और अगले 3 से 5 साल में इस से मुनाफा कमाते हुए अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं।

श्रेणी