बेगूसराय के किसान नीरज ने 2 एकड़ में पपीते की खेती से कमाया लाखों का मुनाफा

Published on: 06-Jul-2023

नीरज सिंह ने अपने बाग में रेड लेडी किस्म के पपीते की खेती शुरू की है। उनका कहना है, कि वह एक पौधे से 100 किलो तक पपीता तोड़ रहे हैं। उनके बाग में 10 महिलाएं रोज काम करती हैं। पपीता एक ऐसा फल होता है, जिसकी बाजार सालभर उपलब्धता बनी रहती है। पपीता की कीमत 40 से 50 रूपए के मध्य होती है। उत्तर प्रदेश, बिहार, तमिलनाडु, हरियाणा, पंजाब और बिहार समेत बहुत सारे राज्यों में किसान पपीता का उत्पादन करते हैं। पपीता बागवानी के अंतर्गत आने वाली एक फसल है। बहुत सारे राज्यों में पपीता की खेती को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार द्वारा अच्छा खासा अनुदान प्रदान किया जाता है। विशेष रूप से बिहार के किसान खेती किसानी में अधिक रूची ले रहे हैं। बतादें, कि बिहार के सीतामढ़ी, नलंदा, हाजीपुर, दरभंगा और मधुबनी समेत बहुत सारे जनपदों में किसान पपीते का उत्पादन कर रहे हैं। परंतु, बेगूसराय जनपद की बात ही कुछ हटकर है। यहां पर एक किसान ने पपीते की खेती कर के लोगों के सामने नजीर प्रस्तुत की है।

एक पपीते के पौधे से कितना मुनाफा होता है

चेरिया बरियारपुर प्रखंड स्थित बढ़कुरवा के निवासी हैं। जानकारी के लिए बतादें कि किसान नीरज पपीते की खेती के जरिए सालाना 6 लाख रूपए की आमदनी कर रहे हैं। विशेष बात यह है, कि किसान नीरज सिंह को एक न्यूज चैनल पर प्रसारित एक खास कार्यक्रम से पपीते की खेती करने के लिए प्रेरित हुए। उसके पश्चात उन्होंने पपीते की खेती चालू कर दी। फिलहाल, उन्होंने 2 एकड़ भूमि के रकबे पर पपीते की खेती कर रखी है। विशेष बात यह है, कि पपीते के खेती के लिए नीरज को उद्यान विभाग से भी बेहद सहायता मिली और इसकी खेती आरंभ करने हेतु पौधें भी मुहैय्या कराए गए। वह एक पपीते के पौधे से 50 किलोग्राम तक पपीता की पैदावार कर रहे हैं। ये भी देखें: किसान कर लें ये काम, वरना पपीते की खेती हो जाएगी बर्बाद

पपीते की खेती से एक एकड़ में कितना मुनाफा होगा

मुख्य बात यह है, कि नीरज सिंह ने अपने बाग में रेड लेडी किस्म के पपीते को लगाया है। नीरज ने बताया है, कि वह कुछ पोधों से 100 किलो तक पपीता तोड़ रहे हैं। उनके बाग के अंदर 10 महिलाएं प्रतिदिन कार्य करती हैं। अब ऐसी स्थिति में उन्होंने 10 लोगों को रोजगार भी दे रखा है। किसान नीरज सिंह का कहना है, कि वह रेड लेडी किस्म के पपीते की दो एकड़ भूमि में खेती कर रहे हैं। एक वर्ष में पपीते की फसल तैयार हो जाती है। वह प्रति वर्ष 10 लाख रुपये के पपीते बेचते हैं। बतादें, कि 4 लाख रुपये की लागत को हटाकर वह 6 लाख रुपये का शुद्ध मुनाफा उठाते हैं।

पपीते की खेती के लिए 45 हजार तक अनुदान

उन्होंने बताया है, कि किसानों को परंपरागत खेती के साथ-साथ बागवानी भी करनी चाहिए। विशेष कर पपीते की खेती अवश्य करनी चाहिए। क्योंकि, इसमें दोगुना से भी ज्यादा मुनाफा होता है। यदि आप एक एकड़ में पपीते की खेती करते हैं, तो 2 लाख रुपये की लागत आ जाएगी। साथ ही, सरकार की ओर से प्रति एकड़ 45 हजार रुपये का अनुदान दिया जाता है। इस प्रकार बेगूसराय जनपद के अन्य किसानों के लिए भी पपीते की खेती करने का अच्छा अवसर है।

श्रेणी
Ad
Ad