किसान ने फसल का संरक्षण करने के लिए तैयार किया अनोखा स्ट्रक्चर

By: Merikheti
Published on: 15-Nov-2023

मध्य प्रदेश के एक किसान ने एक स्ट्रक्चर तैयार किया है, जिसके माध्यम वह स्वयं की फसल को आंधी-तूफान से संरक्षित कर सकता है। सिर्फ इतना ही नहीं इस स्ट्रक्चर पर ओले एवं पाले का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। क्षेत्र के बाकी कृषक भी इस स्ट्रक्चर को खूब पसंद कर रहे हैं। एक कहावत है, कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है। ये कहावत मध्य प्रदेश के सागर के युवा किसान आकाश चौरसिया पर पूर्णतय फिट बैठती है। उन्होंने अपनी फसल को मौसम की मार से संरक्षण के लिए एक अद्भुत फार्मूला इजात कर डाला है। समीपवर्ती क्षेत्र के किसान भी उनकी इस तरकीब को खूब पसंद किया जा रहा है। साथ ही, उनसे इस बारे में प्रशिक्षण लेने भी पहुंच रहे हैं। इस युवा किसान के द्वारा खोजे गए फार्मूले की वजह से किसी भी फसल को तेज आंधी, गर्मी और सर्दी से संरक्षित किया जा सकता है। दरअसल, आकाश चौरसिया जैविक खेती करते हैं। क्षेत्र में उनको किसान हित में अपने नवाचारों के लिए जाना जाता है। वह खेती को और अच्छा बनाने के लिए कुछ न कुछ नया करते ही रहते हैं।

फसलों का संरक्षण करने हेतु अनोखा स्ट्रक्चर

आकाश चौरसिया ने अपनी फसलों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए उन्होंने अपने खेत में एक स्ट्रक्चर तैयार किया है, जिसमें उन्होंने एक निर्धारित फासले और ऊंचाई पर अपने खेत पर बांस एवं घास का ढांचा तैयार किया है। सर्दी के मौसम में कोहरे की अधिकता बढ़ने से फसलों पर पाला लगने की आशंका भी काफी बढ़ जाती है। परंतु, अगर आप इस स्ट्रक्चर को अपने खेत में बनाते हैं, तो आपकी फसल हवा में लगभग 12 फीट ऊपर अटक जाती है। ऐसी स्थिति में यदि आंधी आती है, तो यह स्ट्रक्चर उसे हानि नहीं पहुंचाता है। इस स्ट्रक्चर पर ओलावृष्टि का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। क्योंकि, ओले घास में अटक जातें हैं। जो कि बाद में पिघलकर पानी के तौर पर फसल के लिए फायदेमंद होते हैं।

ये भी पढ़ें:
जानें भारत में सबसे बड़े पैमाने पर की जाने वाली फसलों से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

स्ट्रक्चर तैयार करने में कितना खर्चा आया

आकाश चौरसिया का कहना है, कि इस स्ट्रक्चर को तैयार करने में न्यूनतम 50 हजार रुपये खर्च होते हैं। परंतु, एक बार तैयार होने के पश्चात यह स्ट्रक्चर 6 वर्ष तक चल सकता है। उसके बाद फिर मिट्टी में मिल जाता है। स्ट्रक्चर बनाने के स्थान पर, वहां दो प्रकार की फसलें उत्पादित की जा सकती हैं। एक, जमीन पर फसल की पैदावार की जा सकती है और दूसरा, इस स्ट्रक्चर पर विंटर की फसलें चढ़ा के पैदावार की जा सकती है। इस स्ट्रक्चर को अपने खेत में तैयार करने के उपरांत किसान एक एकड़ भूमि से डेढ़ लाख रुपये तक की आमदनी सुगमता से कर सकते हैं।

नि:शुल्क ट्रेनिंग देते हैं आकाश चौरसिया

आकाश चौरसिया इस स्ट्रक्चर को तैयार करने का नि:शुल्क प्रशिक्षण भी देते हैं, जिससे कि अन्य किसान भी इसका लाभ उठा सकें। वह बताते हैं, कि दूर-दूर से किसान उन तक इसको बनाने का प्रशिक्षण लेने आते हैं। आकाश चौरसिया सागर के संजय नगर के निवासी हैं, जहां उन्होंने एक ढाई एकड़ भूमि में इस स्ट्रक्चर को तैयार कर रखा है। उनके पास कपूरिया गांव में भी फार्म हाउस है, जहां वे बाकी कृषकों को भी इस स्ट्रक्चर का प्रशिक्षण देते हैं।

श्रेणी