किसानों के इंतजार की घड़ी खत्म जुलाई के अंत तक आ जाऐगी पीएम किसान की 14वीं किस्त

Published on: 20-Jul-2023

पीएम किसान सम्मान निधि के अंतर्गत किसानों को वर्षभर के अंदर छह हजार रुपये की धनराशि प्रदान की जाती है। यह धनराशि दो हजार रुपये की तीन समान किस्तों के तहत दी जाती है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की 14वीं किस्त की प्रतीक्षा में बैठे लाखों किसानों के लिए खुशखबरी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महीने के अंतिम सप्ताह में 14वीं किस्त जारी कर सकते हैं। ऐसा कहा जा रहा है, कि पीएम मोदी राजस्थान के नौगार जनपद में एक कार्यक्रम के दौरान किसानों के खाते में पीएम किसान के 2000 रुपये ट्रांसफर कर सकते हैं। इस बार लगभग 8 करोड़ से भी ज्यादा किसान इस योजना का फायदा उठा पाएंगे।

पीएम मोदी 28 जुलाई को पीएम किसान की 14वीं किस्त जारी कर सकते हैं

ऐसा बताया जा रहा है, कि पीएम मोदी 28 जुलाई को पीएम किसान की 14वीं किस्त जारी कर सकते हैं। इसके लिए सारी तैयारियां भी की जा चुकी हैं। मुख्य बात यह है, कि इस बार वह 18 हजार करोड़ रुपये से भी ज्यादा की धनराशि किसानों की खाते में हस्तांतरित करेंगे। लगभग 9 करोड़ किसानों के खाते में 2000 रुपये की धनराशि पहुंचेगी। 

ये भी पढ़े: पीएम किसान सम्मान निधि की 14 वीं किस्त सिर्फ इन किसानों को दी जाएगी 

भारत में आज भी बहुत से किसानों को लग रहा है, कि शायद इस बार भी उनके खाते में योजना की धनराशि नहीं आ पाए। परंतु, उन किसानों को चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। अगर आपने ई- केवाईसी और आधार नंबर बैंक अकाउंट से लिंक करवा लिया है, तो आपके खाते में पीएम किसान की 14वीं किस्त अवश्य आएगी। 

किसान फटाफट करलें ये काम

अगर आपने अभी तक ये दोनों कार्य नहीं किए हैं, तो आप तुरंत कर लें, वर्ना 14वीं किस्त से आप छूट सकते हैं। किसान भाई ग्राहक सेवा केंद्र पर जाकर ई- केवाईसी और आधार नंबर बैंक अकाउंट से लिंक करवा सकते हैं। अगर आप चाहें, तो घर बैठे-बैठे ऑनलाइन भी pmkisan.gov.in पर जाकर ई-केवाईसी का कार्य पूर्ण कर सकते हैं। 

बतादें, कि पीएम किसान सम्मान निधि के अंतर्गत कृषकों को साल में छह हजार रुपये की धनराशि दी जाती है। यह धनराशि दो हजार रुपये की तीन समान किस्तों में कर के दी जाती है। वर्तमान तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पीएम किसान की 13वीं किस्त जारी कर चुके हैं। 27 फरवरी को उन्होंने 13वीं किस्त के लिए 16 हजार करोड़ से अधिक की धनराशि जारी की थी।

श्रेणी