इस राज्य में बनने जा रहीं है नंदीशालाएं, किसानों को मिलेगी राहत

Published on: 17-Jul-2022

किसानों की फसल को खुले पशुओं से बचाने के लिए राजस्थान सरकार बना रही नंदीशालाएं

जयपुर। खुले में घूम रहे गोवंश किसानों की फसल को बर्बाद कर रहे हैं। कई राज्यों में किसान खुले में घूम रहे गोवंश की समस्या से जूझ रहे हैं। राजस्थान सरकार ने किसानों के हित में एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। इसके तहत ग्राम स्तर, पंचायत स्तर और जिला स्तर पर नंदीशालाएं (गौशाला) बनाई जाएंगी। जिससे किसानों की फसल को खुले में घूमने वाले पशुओं के नुकसान से बचाया जा सके। इसके लिए सरकार प्रत्येक किसान को नंदीशालाएं बनाने के लिए 48 हजार रुपये देने जा रही है।

ये भी पढ़ें: रोका-छेका अभियान : आवारा पशुओं से फसलों को बचाने की पहल

२० बीघा की जगह अब १० बीघा खेत की जरुरत

राजस्थान सरकार ने नंदीशालाएं बनाने के लिए किसानों को बड़ी राहत दी है। इसके तहत अब किसान को २० बीघा की जगह १० बीघा खेत में ही नंदीशालाएं खोलने के निर्देश दिए गए हैं। इन नंदीशालाओं का संचालन ग्राम स्तरीय समिति द्वारा किया जाएगा।

अपाहिज व अंधे गोवंश के भरण पोषण को अतिरिक्त अनुदान

जो किसान अपनी नंदीशाला में अपाहिज व अंधे गोवंश की सेवा करेंगे, सरकार ने उनके लिए अतिरिक्त अनुदान देने की व्यवस्था बनाई है। अतिरिक्त संसाधनों की व्यवस्था एवं अतिरिक्त अनुदान देने के प्रस्ताव को स्वीकृति के लिए वित्त विभाग को भेजा गया है।

ये भी पढ़ें: भारत मौसम विज्ञान विभाग ने दी किसानों को सलाह, कैसे करें मानसून में फसलों और जानवरों की देखभाल

किसानों को तारबंदी की मिली है छूट

नंदीशालाओं के संचालन के बाद भी यदि निराश्रित और खुले में घूम रहे गोवंश से फसल को नुकसान हो रहा है, तो किसान स्वंय ही अपने खेत की तारबंदी कर सकते हैं। जिन किसानों के पास १.५ हेक्टेयर भूमि है, तो उन किसानों को तारबंदी के लिए सरकार आर्थिक मदद देगी। अधिक भूमि वाले किसान अपने ही खर्चे पर तारबंदी कर सकते हैं। ------ लोकेन्द्र नरवार

श्रेणी