मशरूम से अब मिठाई ही नहीं नमकीन भी बनाई जा रही है

Published on: 08-Jun-2023

बिहार राज्य में किसानों को मशरूम की खेती करने के लिए बढ़ावा दिया जा रहा है। यहां पर सरकार मशरूम की खेती करने पर कृषकों को 50 प्रतिशत तक अनुदान राशि प्रदान करती है। मशरूम का नाम कान में पड़ते ही लोगों के दिल में सर्वप्रथम लजीज सब्जी का स्वाद सामने आता है। अधिकांश लोगों को यह लगता है, कि मशरूम से केवल स्वादिष्ट सब्जी ही निर्मित की जाती है। परंतु ऐसी कोई बात नहीं है। फिलहाल मशरूम से बर्फी, ठेकुआ, गुजिया, जलेबी, बिस्किट, लड्डू और पेड़ा समेत विभिन्न प्रकार की मिठाइयां बनाई जा रही हैं, जिनकी बाजार में काफी ज्यादा मांग है।

भारत में मशरूम का सर्वाधिक उत्पादन कहाँ होता है

ऐसी स्थिति में बिहार में सबसे ज्यादा मशरूम की खेती की जाती है। बतादें कि साल 2021- 22 में बिहार के कृषकों ने 28 हजार टन मशरूम का उत्पादन किया था। विशेषकर उत्तरी बिहार में किसान सबसे ज्यादा मशरूम की खेती किया करते हैं। यहां पर कृषकों को मशरूम की खेती करने हेतु प्रशिक्षण भी दिया जाता है। अगर आप मशरूम से निर्मित लड्डू खाएंगे तो आप इसका स्वाद कभी नहीं भूल पाऐंगे।

मशरूम की खेती को प्रोत्साहित किया जा रहा है

बिहार में किसानों को मशरूम की खेती करने के लिए बढ़ावा दिया जा रहा है। यहां पर सरकार मशरूम की खेती करने के लिए कृषकों को 50 फीसद तक अनुदान राशि देती है। यही कारण है, कि बिहार में मशरूम से अचार समेत विभिन्न प्रकार के उत्पाद निर्मित किए जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें:
बिहार में मशरूम की खेती कर महिलाएं हजारों कमा हो रही हैं आत्मनिर्भर
बिहार के किसान मशरूम से मिठाई के साथ-साथ अब नमकीन डिशेज भी निर्मित कर रहे हैं, जिसकी बाजार में काफी ज्यादा मांग है। मशरूम से निर्मित नमकीन खाने में चटपटे लगते हैं। बिहार का नाम कान में पड़ते ही लोगों के मन में सर्वप्रथम ठेकुआ का नाम आता है। ऐसा मानना है, कि ठेकुआ गेहूं के आटे से तैयार होता है। परंतु, फिलहाल मशरूम से भी स्वादिष्ट ठेकुआ निर्मित हो रहा है, जिसका कोई जवाब नहीं है।

श्रेणी