Ad

Agriculture Machinery

फसल की कटाई के आधुनिक यंत्र

फसल की कटाई के आधुनिक यंत्र

जैसे जैसे किसान की खेती की जोत छोटी होती जा रही है उसी तरह से आजकल नए नए कृषि यन्त्र भी बाजार में आ रहे हैं. अभी रबी की फसल खेतों में शान से लहलहा रही है, किसान अपनी फसल के रंग और आकार को देख कर ही फसल के उत्पादन का अंदाज लगा लेता है. अभी किसान की रबी की फसल की कटाई मार्च से शुरू हो जाएगी और जैसा की सभी की फसल की कटाई इसी समय होती है तो जाहिर सी बात है मजदूरों की कमी किसान को होती है. कहते हैं न कि "आवश्यकता अविष्कार कि जननी है" तो किसानों कि इसी आवश्यकता को पूरा करने के लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक रात दिन मेहनत कर रहे हैं. जब किसान अपने पूरे खेत कि जुताई बुबाई बैलों से नहीं कर पाता था तो ट्रेक्टर आया और जब खेत में फसल की कटाई समय से नहीं हो रही थी तो उसके लिए फसल कटाई के लिए मशीन भी बाजार में आ गई. आज हम इन्हीं मशीनों के बारे में चर्चा करेंगें:

रीपर बाइंडर (Reaper Binder):

reaper-binder

रीपर बाइंडर मशीन इंजन द्वारा चलती है और इसको चलाना भी आसान होता है. इससे किसान कम डीजल खर्चा में ज्यादा काम कर सकता है तथा इससे उसको भूसा भी पूरा मिल जाता है तथा किसान को फसल को इकठ्ठा करने में भी दिक्कत नहीं होती है क्यों की इसको रीपर काटने के साथ साथ उसकी पूरै भी बना देती है. 

ये भी पढ़े: धान की फसल काटने के उपकरण, छोटे औजार से लेकर बड़ी मशीन तक की जानकारी 

इससे किसानों को मजदूरों की समस्या से कुछ हद तक छुटकारा मिल जाता है. आजकल खेती में कुशल मजदूरों की बहुत ही समस्या है. कई बार किसान की पाकी हुई फसल मजदूर न मिलने की वजह से काफी नुकसान होता है. इस नुकसान से बचने के लिए ये छोटी कटाई मशीन बहुत ही काम की मशीन है.

हाथ का रीपर:

हाथ से काटने वाला रीपर भी आता है लेकिन वो फसल के पूरै नहीं बनता है वो एक साइड में कटी हुई फसल को डालता जाता है. बाद में उसे मजदूरों की सहायता से पूरै बना दिया जाता है. कंबाइन हार्वेस्टर मशीन: यह मशीन बहुत महँगी होती है तथा ये बड़े किसानों के लिए उपयोगी है. छोटे किसान इसको किराये पर लेकर भी अपनी फसल की कटाई करा सकते हैं. इससे कम समय में ज्यादा काम किया जा सकता है. ये फसल को ज्यादा ऊपर से काटती है जिससे बाद में इसके तूरे से भूसा बनाया जा सकता है. इसमें किसान अपनी फसल को समय से लाकर बाजार में ले जा सकता है. इसमें कम समय में किसान की फसल भूसे से अलग हो जाती है. कंबाइन हार्वेस्टर मशीन की ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें.

स्ट्रा-रीपर (Straw Reaper) या भूसा बनाने वाली मशीन:

स्ट्रा-रीपर या आप कह सकते हैं की भूसा बनाने वाली मशीन छोटे और बड़े दोनों किसानों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. जो किसान कंबाइन हार्वेस्टर मशीन से खेत को भूसा न बनने की वजह से कटवाने से डरते थे अब वो भी कंबाइन हार्वेस्टर से अपनी फसल कटवाने लगे हैं. क्यों की अब स्ट्रा-रीपर से भूसा बनाना आसान हो गया है. चूँकि किसान पशु भी पालते हैं और इसके लिए उन्हें भूसा भी चाहिए. तो भूसा की जरूरत रखने वाले किसानों के लिये तो हाथ से फसल कटवाना मजबूरी भी थी लेकिन जो किसान पशु नहीं पालते हैं,  वो कंबाइन मशीन से फसल कटवाने के इच्छुक भी थे लेकिन वो परेशान भी भी कम नहीं थे. क्योंकि कम्बाइन मशीन 30 से 35 सेंटीमीटर ऊपर से ही गेहूं की बालियों को काटती है इसलिए मशीन से कटवाने पर अनाज के नुकसान होने का खतरा रहता है. कम्बाइन मशीन नीचे गिरी हुई बालियों को उठा नहीं पाती है. ऐसे में भूसा बनाने वाली मशीन लोगों के लिये वरदान साबित हो रही है. इससे फसल कटवाने पर किसानों कई प्रकार का फायदा होता है. पहली बात तो ये कि उन्हें गेहूं के दानों के साथ साथ भूसा भी मिल जाता है. इससे पशुओं के लिये चारे की समस्या खड़ी नहीं होती. दूसरा जो दाना मशीन से खेत में रह जाता है उसको ये मशीन उठा लेती है. जिसको की किसान अपने पशु के दाने के रूप में प्रयोग कर लेता है क्योंकि इसमें मिटटी आने की सम्भावना रहती है.

कटर थ्रेसर (Cutter Thresher):

अगर हम कटर थ्रेसर की बात करें तो इसने भी किसानों की जिंदगी बहुत आसान कर दी है. जब किसान हाथ से फसल कटवाते थे तो अनाज को अलग करने के लिए फसल की मिडाई करने के लिए बैल या ट्रेक्टर चला के अनाज को अलग किया जाता था. उसके बाद थ्रेसर से करने लगे. 40 क्विंटल अनाज निकालने में 15 घंटे का समय लग जाता था जो की एक बड़े किसान के लिए बहुत ही मेहनत का काम था. उसके बाद कटर थ्रेसर आया जो की बहुत ही जल्दी अनाज और भूसा अलग कर देता है. आज के समय में कटर थ्रेसर बहुत ही उपयोगी मशीनरी बनी हुई है। 

ये भी पढ़े: खरीफ की फसल की कटाई के लिए खरीदें ट्रैक्टर कंबाइन हार्वेस्टर, यहां मिल रही है 40 प्रतिशत तक सब्सिडी

चारा काटने की मशीन:

पशुपालन और खेती दोनों एक दूसरे के पूरक हैं. किसान खेती के साथ साथ पशु पालन भी करता है. खेती से उसके पशुओं का चारा भी आ जाता है और उसके लिए पैसे कमाने का दूसरा जरिया भी बन जाता है. पुराने समय में चारा काटने के लिए किसान को बहुत मेहनत करनी पड़ती थी. कम से कम 3  आदमी चारा काटने की मशीन को चलाने के लिए चाहिए होते थे. लेकिन अब किसान ने भी इसका समाधान ढूंढ लिया और आज एक ही आदमी 10 - 15 पशुओं का चारा काट देता है वो भी 10 से 15 मिनट में.

चारा काटने की मशीन कैसे काम करती है:

चारा काटने की मशीन को दो आदमी उसके चक्र को हत्था के द्वारा घुमाते हैं तथा एक उसमें चारा डालने का काम करता है. यह बहुत ही मेहनत वाला काम है. इसमें किसान को बहुत समय लगता था और मेहनत भी बहुत होती थी.

इंजन से चलाने वाली मशीन:

इस मशीन को इंजन या बिजली से भी चलाया जा सकता है. इससे सिर्फ एक आदमी की आवश्यकता होती है वही आदमी अकेला ४ आदमी के बराबर काम कर लेता है. नीचे दिए वीडियो में देखें अंत में  हम कह सकते हैं की "Technology is a great servant, but a bad master." मशीनीकरण को हम अपने भले के लिए प्रयोग करें तो अच्छा है अन्यथा इसके दुष्परिणाम भी हम को ही झेलने पड़ते हैं. जैसे की खड़ी फसल को कटवाने के अपने फायदे है तो कुछ नुकसान भी हैं. अगर हम फसल के अवशेष का भूसा बनवा लेते हैं तो ये हमारे लिए लाभदायक है और अगर हम इसके अवशेषों को जलाते हैं तो ये प्रक्रिया हमारी बहुत ही उपजाऊ जमीन को भी बंजर बनाने में बहुत ज्यादा समय नहीं लेती है. आप अपने कमेंट करके हमें जरूर बताएं, अगर आपको किसी अन्य विषय पर भी जानकारी चाहिए. आप हमारे WhatsApp  ग्रुप में भी जुड़ सकते हैं. कृपया हमें linkedin , youtube , twitter पर भी आप फॉलो कर सकते हैं.

इस राज्य में सुपर सीडर पर 40 प्रतिशत तक का अनुदान दिया जा रहा है

इस राज्य में सुपर सीडर पर 40 प्रतिशत तक का अनुदान दिया जा रहा है

वर्तमान में संभागीय कृषि अभियांत्रिकी विभाग सतना में किसान भाइयों के लिए सुपर सीडर उपलब्ध है। विशेष बात यह है, कि यदि किसान भाई सीडर खरीदते हैं, तो इस पर उन्हें 40 प्रतिशत तक अनुदान दिया जाएगा। मध्य प्रदेश की राज्य सरकार किसान भाइयों की आमदनी में इजाफा करने के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं जारी कर रही है। इन योजनाओं के अंतर्गत किसान भाइयों की खेती करने की तकनीक वैज्ञानिक रूप धारण कर गई है। इसके अतिरिक्त मध्य प्रदेश में कृषकों को कृषि यंत्रों पर अच्छा-खासा अनुदान भी दिया जा रहा है। परंतु, फिलहाल रीवा और सतना जनपद के किसानों के लिए काफी अच्छी खुशखबरी है। यहां के कृषकों को सुपर सीडर मशीन खरीदने के लिए अच्छा-खासा अनुदान प्रदान किया जा रहा है। 

सुपर सीडर किसानों के लिए काफी उपयोगी साबित होता है

मीडिया खबरों के अनुसार, सुपर सीडर एक ऐसा यंत्र है, जिसको ट्रैक्टर के साथ जोड़कर खेती-बाड़ी करने के कार्य में लिया जाता है। इस यंत्र का सर्वाधिक इस्तेमाल फसलों की बुवाई करने हेतु किया जाता है। इसके इस्तेमाल से नरवाई की दिक्कत परेशानी दूर हो चुकी है। अब ऐसी स्थिति में गेहूं एवं चने की खेती करने वाले कृषकों के लिए सुपर सीडर यंत्र बेहद उपयोगी साबित होता है। 

यह भी पढ़ें: सुपर सीडर मशीन(Super Seeder Machine) क्या है और कैसे दिलाएगी पराली की समस्या से निजात

सुपर सीडर के उपयोग से नरवाई जलाने की आवश्यकता नहीं पड़ती

आपकी जानकारी के लिए बतादें, कि किसी फसल के डंठल को नरवाई कहा जाता है। सुपर सीडर धान एवं गेहूं की डंठल को छोटे- छोटे भागों में विभाजित कर मृदा में मिला देता है। अब ऐसी स्थिति में सुपर सीडर मशीन से फसलों की बिजाई करने वाले कृषकों को नरवाई को आग के जरिए जलाना नहीं पड़ता है। इससे प्रदूषण पर भी रोक लगती है। 

सुपर सीडर पर 40 प्रतिशत तक का अनुदान दिया जाएगा

फिलहाल, संभागीय कृषि अभियांत्रिकी विभाग सतना में किसान भाइयों के लिए सुपर सीडर उपलब्ध हैं। विशेष बात यह है, कि यदि किसान भाई सीडर खरीदेंगे तो 40 प्रतिशत तक अनुदान मिलेगा। मुख्य बात यह भी है, कि यह यंत्र एक घंटे में एक एकड़ भूमि में फैले नरवाई को चौपट कर देती है। इसके पश्चात फसलों की बिजाई करती है। धान के उपरांत गेहूं एवं गेंहू के बाग मूंग की खेती करने वाले कृषकों के लिए सुपर सीडर किसी वरदान से कम नहीं है। किसान भाई सुपर सीडर के माध्यम से वर्षभर में अच्छी-खासी आमदनी की जा सकती है। वैसे तो सुपर सीडर की कीमत लगभग 3 लाख रुपये है। परंतु, कृषि विभाग की तरफ से 40 प्रतिशत प्रतिशत अनुदान मिलने के पश्चात इसकी कीमत काफी हद तक कम हो जाती है।

जानें किसानों को बिजाई में मदद करने वाले 5 कृषि उपकरणों के बारे में

जानें किसानों को बिजाई में मदद करने वाले 5 कृषि उपकरणों के बारे में

कृषक भाई भारत के अंदर बुवाई के लिए विभिन्न फर्टिलाइजर मशीनों का इस्तेमाल करते हैं। इन उपकरणों के साथ किसान कम वक्त में खेतों में बिजाई का कार्य पूर्ण कर पाते हैं। कृषि उपकरणों की सहायता से किसान खेती में वक्त और मजदूरी की बचत कर सकते हैं। कृषि करने के लिए कृषकों को कई तरह के कृषि उपकरणों और यंत्रों की जरूरत पड़ती है। खेती-किसानी में हर एक कृषि यंत्र का भिन्न-भिन्न कार्यों में इस्तेमाल किया जाता है। भारत में बिजाई के लिए किसान बहुत सारे फर्टिलाइजर मशीनों का इस्तेमाल करते हैं। इन उपकरणों के इस्तेमाल से कृषक कम वक्त में खेतों में बुवाई का कार्य निपटा लेते हैं। 

बिजाई में मदद करने वाले 5 कृषि उपकरण

न्यूमेटिक मल्टी क्रॉप प्लांटर

Pneumatic Multi Crop Planter का उपयोग केवल बीज को पूर्व-निर्धारित बीज से बीज की दूरी एवं पंक्तियों की दूरी में बीजाई करने के लिए किया जाता है। बतादें, यह कृषि यंत्र ट्रैक्टर द्वारा संचालित है और इसमें सेंट्रीफ्यूगल ब्लोअर लगा हुआ होता है। इसका इस्तेमाल वायुदाब ग्रहण करके मीटरिंग मेकेनिज्म में बीज रोपण के लिए किया जाता है। इस उपकरण के अंदर आपको मेन फ्रेम, एस्पिरेटर ब्लोअर, सैल टाइप मीटरिंग प्लेट वाली डिस्क, अलग अलग हॉपर, फरो ओपनर, पी.टी.ओ. द्वारा चालित शाफ्ट, ग्राउंड ड्राइव व्हील इत्यादि लगे होते हैं। यह सोयाबीन, कपास, मटर, मक्का, मूँगफली, भिंडी, सरसों और ज्वार आदि के बीज के रोपण हेतु उपयुक्त है। भारत में Pneumatic Multi Crop Planter की कीमत लगभग 50 हजार रुपये हो सकती है।

ये भी पढ़ें: इन कृषि यंत्रों पर सरकार दे रही है भारी सब्सिडी, आज ही करें आवेदन

सीड एंड फर्टिलाइजर ड्रिल

Seed And Fertilizer Drill का उपयोग खेती के लिए पहले से तैयार क्षेत्र में गेहूं और अन्य अनाज की फसलों की बीजाई के लिए किया जाता है। इस यंत्र में एक सीड बॉक्स, फर्टिलाइजर बॉक्स, सीड व फर्टिलाईजर मिटरिंग मेकनिज्म, सीड ट्यूब, फरो ओपनर तथा सीड एवं फर्टिलाईजर रेट एडजस्टिंग लीवर और ट्रांसपोर्ट सब पावर ट्रांसमीटिंग व्हील लगे होते हैं। फ्लूटेड रोलर सीड बॉक्स मे लगे होते हैं, जो नली मे बीज प्राप्त करते है और फरो ओपनर से जुड़ी सीड ट्यूब मे डालते है। रोलर को खिसकाने पर बीज प्राप्त करने वाली नली की लंबाई बढ़ाई या घटाई जा सकती है। इससे बुवाई के समय बीज की मात्रा कम या ज्यादा हो सकती है। भारत में सीड एंड फर्टिलाइजर ड्रिल की कीमत करीब 35 हजार रुपये हो सकती है। 

जीरो टिल ड्रिल

Zero Till Drill एक कृषि उपकरण है, जिसका इस्तेमाल ट्रैक्टर के माध्यम से किया जाता है। जीरो टिल ड्रिल का उपयोग धान कटाई के उपरांत खेत को बिना जुताई किए गेहूं की बीजाई के लिए किया जाता है। इस यंत्र में फ्रेम, सीड बॉक्स, फर्टिलाइजर बॉक्स, सीड व फर्टिलाईजर मिटरिंग मेकनिज़्म, सीड ट्यूब, फरो ओपनर तथा सीड एवं फर्टिलाईजर रेट एडजस्टिंग लीवर और ट्रांसपोर्ट तथा पावर ट्रांसमीटिंग व्हील लगे होते हैं। यह कृषि उपकरण समुचित गहराई और उचित दूरी पर बीजों की बिजाई कर सकती है। भारत में जीरो टिल ड्रिल की कीमत करीब 35 हजार रुपये हो सकती है। 

ये भी पढ़ें: जीरो टिलेज तकनीक से गेहूं की करें बिजाई और बचाये 1500 रुपए प्रति एकड़

स्ट्रिप टिल ड्रिल

Strip Till Drill का इस्तेमाल धान की कटाई के बाद बिना भूमि तैयार किए गेहूं की बिजाई के लिए किया जाता है। इस यंत्र से पारंपरिक पद्धति के मुकाबले 50 से 60 प्रतिशत ईंधन और 65 से 75 प्रतिशत समय की बचत की जा सकती है। इस यंत्र की सहायता से फसल की बुवाई समय पर करने से और भी ज्यादा उत्पादन हांसिल किया जा सकता है। इसके रोटरी सिस्टम में C टाइप ब्लेड लगे होते हैं, जो खेत में प्रत्येक फरो ओपनर के आगे 75 MM चौड़ी पट्टी कि जुताई कर सकते है। भारत में स्ट्रिप टिल ड्रिल की कीमत तकरीबन 50 हजार रुपये हो सकती है।

फर्टिलाइजर ब्रॉडकास्टर

Fertilizer Broadcaster का उपयोग फसल में दानेदार खाद और बीज के छिड़काव के लिए किया जाता है। यह कृषि यंत्र आपको हस्तचालित और ट्रैक्टर चालित दोने रूप में देखने को मिल जाता है। फर्टिलाइजर ब्रॉडकास्टर को ट्रैक्टर के पीछे लगा कर संचालित किया जाता है। यह इसकी पीटीओ पावर से चलता है। इस यंत्र पर एक हॉपर और एक घूमने वाली डिस्क लगी होती है। हापर में से बीज या खाद को तेजी से घूमने वाली डिस्क पर गिरने दिया जाता है। इसमें बीज/खाद की मात्रा स्पीनिंग डिस्क तक पहुंचने वाली गति शटर प्लेट द्वारा नियंत्रित की जा सकती है। भारत में फर्टिलाइजर ब्रॉडकास्टर की कीमत करीब 12 हजार हो सकती है। 

Flaming Tractor: जानिए फ्लेमिंग सर्च ट्रैक्टर की अद्भुत विशेषता के बारे में

Flaming Tractor: जानिए फ्लेमिंग सर्च ट्रैक्टर की अद्भुत विशेषता के बारे में

हम आपको इस लेख में भारत के किसान भाइयों के लिए एक खास तकनीक का सर्च ट्रैक्टर के बारे बताने जा रहे हैं। दरअसल, यह खेत की फसल के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद हैं। किसान भाइयों आज हम आपके लिए ऐसा उत्तम सर्च ट्रैक्टर लेकर आए हैं, जो कि शायद ही आपने कभी देखा होगा। बतादें कि हम जिस ट्रैक्टर के विषय में चर्चा कर रहे हैं, वह दिखने में जितना भिन्न है, उतने ही उसके अलग हटकर फायदे हैं।

फ्लेमिंग ट्रैक्टर को आज के समय का बेहतरीन उपकरण माना जाता है

किसानों के लिए ट्रैक्टर एक अहम भूमिका निभाता है। दरअसल, इस अद्भुत और शानदार ट्रैक्टर का नाम फ्लेमिंग ट्रैक्टर है, जो आज के आधुनिक दौर का सबसे अच्छा कृषि उपकरण माना जा रहा है। वैसे देखा जाए तो कृषि क्षेत्र में इस ट्रैक्टर का काम बेहद ही ज्यादा विशेष होता है। आइए इस अद्भुत ट्रैक्टर के विषय में जानने का प्रयास करते हैं, कि यह कैसे काम करता है। साथ ही, बाजार में फ्लेमिंग सर्च ट्रैक्टर की कीमत कितनी होती है।

ये भी पढ़े: कम जोत वाले किसानों के लिए कम दाम और अधिक शक्ति में आने वाले ट्रैक्टर

फ्लेमिंग ट्रैक्टर आखिर होता क्या है

यह ट्रैक्टर अन्य समस्त ट्रैक्टरों से बिल्कुल अलग होता है। क्योंकि, जब आप इसको खेत में काम करते हुए देखेंगे, तो इसमें आपको आग निकलती हुई दिखाई पड़ेगी, जो खेत को फसल हेतु तैयार कर रही होती है। आपकी जानकारी के लिए बतादें, कि फ्लेमिंग सर्च ट्रैक्टर में से निकलने वाली अग्नि खेत को नवीन फसल रोपने के लिए तैयार करने में किसानों की सहायता करती है। इसके उपयोग से खेत की मृदा में उपस्थित गंदगी और फसल को हानि पहुंचाने वाले रोग आदि बीमारियों का उपचार किया जाता है।

फ्लेमिंग ट्रैक्टर चलाने से पहले किस बात का ख्याल रखें

यदि आप भी अपने खेत में नवीन फसल लगाने के लिए इस सर्च ट्रैक्टर का उपयोग करने जा रहे हैं, तो आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों का भी विशेष ख्याल रखना पड़ेगा। जैसे कि सर्वप्रथम आपको अपने खेत को इसके लिए तैयार करना पड़ेगा। अगर हम आसान और सरल भाषा में कहें तो पहले आपको खेत को कल्टीवेशन या जुताई के लिए बेहतरीन ढ़ंग से तैयार करना होगा। उसके उपरांत खेत में स्थित पुरानी फसल के अवशेषों को भी हटाना पड़ता है। उसके बाद उनको खेत के अंदर ही नष्ट करना होता है। जिससे कि जब आप अपने खेत में फ्लेमिंग सर्च ट्रैक्टर को चलाएं, तो प्रदूषण बिल्कुल ना के बराबर हो और खेत भी सुरक्षित रह पाऐ। 

ये भी पढ़े: कृषि-जलवायु परिस्थितियों में जुताई की आवश्यकताएं (Tillage requirement in agro-climatic conditions in Hindi)

फ्लेमिंग ट्रैक्टर से क्या-क्या फायदे होते हैं

बतादें, कि फ्लेमिंग सर्च ट्रैक्टर में बहुत सारी नोजिश लगी होती है, जिसमें से एक साथ आग निकलती है, जो कि खेत की मृदा को नई फसल के लिए कुछ ही मिनटों में तैयार करने के लिए बना देती है। इस फ्लेमिंग सर्च ट्रैक्टर में आप देखेंगे की इसके पीछे एक बहुत बड़ा CNG गैस सिलेंडर दिया गया है। उसकी सहायता से इनके नोजिश से आग बाहर निकलती है।

फ्लेमिंग ट्रैक्टर की कीमत कितनी है

भारतीय बाजार में इस फ्लेमिंग सर्च ट्रैक्टर की कीमत किसान भाइयों के लिए अत्यंत किफायती होती है। बाजार में इसकी कीमत 10 लाख से चालू होकर 15 लाख रुपए तक बताई जा रही है। इसकी कीमत की बात की जाए तो अलग-अलग राज्यों में इसकी कीमतों में थोड़ा बहुत अंतराल देखने को मिल सकता है।

कृषि कार्यों को बनता है सुगम और तेल खपत करता है कम 49 HP वाले इस ट्रैक्टर में है दम

कृषि कार्यों को बनता है सुगम और तेल खपत करता है कम 49 HP वाले इस ट्रैक्टर में है दम

खेती किसानी को आसान बनाने के लिए ट्रैक्टर अपनी अहम भूमिका निभाता है। इसलिए ट्रैक्टर को किसान का मित्र कहा जाता है। अगर आप भी कम ईंधन खपत करने वाला शक्तिशाली ट्रैक्टर खरीदना चाहते हैं, तो आपके लिए महिंद्रा 585 डीआई एक्सपी प्लस ट्रैक्टर एक शानदार विकल्प सिद्ध हो सकता है। क्योंकि, इस Mahindra 585 DI XP PLUS Tractor ट्रैक्टर में 2100 आरपीएम के साथ 49 HP पावर उत्पन्न करने वाला 3054 सीसी इंजन उपलब्ध किया जाता है, जिसे फ्यूल एफिशिएंट टेक्नोलॉजी के साथ तैयार किया गया है। Mahindra 585 DI XP PLUS Tractor: महिंद्रा कंपनी भारत में अपनी बेहतरीन परफॉर्मेंस वाले ट्रैक्टरों के लिए किसानों के मध्य अलग ही पहचान बनाए हुए है। भारत के ज्यादातर किसान महिंद्रा ट्रैक्टर्स का ही उपयोग करना पंसद करते हैं। 

महिंद्रा 585 डीआई एक्सपी प्लस की विशेषताएं क्या-क्या हैं ?

Mahindra 585 DI XP PLUS ट्रैक्टर में आपको 3054 सीसी क्षमता वाला 4 सिलेंडर में ELS Water Cooled इंजन प्रदान किया जाता है, जो 49 HP पावर के साथ 198 NM अधिकतम टॉर्क उत्पन्न करता है। इस महिंद्रा ट्रैक्टर में 3 Stage Oil Bath Type Pre Air Cleaner टाइप एयर फिल्टर आता है। कंपनी के इस ट्रैक्टर के इंजन से 2100 आरपीएम उत्पन्न होता है। साथ ही, इसकी अधिकतम पीटीओ पावर 44.9 HP है। महिंद्रा 585 डीआई एक्सपी प्लस की भार उठाने की क्षमता 1800 किलोग्राम है। Mahindra 585 DI XP PLUS महिंद्रा ट्रैक्टर की फॉरवर्ड स्पीड 30.0 kmph रखी गई है। यह 11.9 km h रिवर्स स्पीड के साथ आता है। एक्सपी प्लस सीरीज वाले इस ट्रैक्टर में आपको 50 लीटर क्षमता वाला ईंधन टैंक प्रदान किया जाता है।   

ये भी पढ़ें:
MAHINDRA 475 DI ट्रैक्टर फीचर्स, स्पेसिफिकेशन और कीमत

महिंद्रा 585 डीआई एक्सपी प्लस के फीचर्स क्या-क्या हैं ?

महिंद्रा के इस एक्सपी प्लस ट्रैक्टर में आपको Manual / Dual Acting Power स्टीयरिंग देखने को मिल जाता है। बतादें, कि इस 49HP ट्रैक्टर में 8 Forward + 2 Reverse गियर वाला गियरबॉक्स उपलब्ध किया गया है। कंपनी का यह ट्रैक्टर आपको Single / Dual (Optional) क्लच के साथ दिखने को मिल जाता है। साथ ही, इसमें Full Constant Mesh टाइप ट्रांसमिशन प्रदान किया गया है। Mahindra 585 DI XP PLUS महिंद्रा के इस एक्सपी प्सस ट्रैक्टर में Dry Disc / Oil Immersed ब्रेक्स प्रदान किए गए हैं। महिंद्रा कंपनी के इस ट्रैक्टर में MRPTO टाइप पावर टेकऑप आती है, जो 540 आरपीएम उत्पन्न करती है। महिंद्रा 585 डीआई एक्सपी प्लस एक 2WD यानी टू व्हील ड्राइव ट्रैक्टर है। बतादें, कि इसमें 7.50 x 16  फ्रंट टायर एवं 14.9 x 28 रियर टायर प्रदान किए गए हैं।

ये भी पढ़ें:
Mahindra NOVO 605 DI V1: महिंद्रा कंपनी के इस 55 HP वाले ट्रैक्टर की ये खूबियां इसे किसानों का प्रिय बना रही हैं ?

महिंद्रा 585 डीआई एक्सपी प्लस की कितनी कीमत है

भारत में Mahindra & Mahindra ने अपने इस Mahindra 585 DI XP PLUS महिंद्रा 585 डीआई एक्सपी प्लस ट्रैक्टर की एक्स शोरूम कीमत 7.00 लाख से 7.30 लाख रुपये निर्धारित की गई है। 585 डीआई एक्सपी प्लस की ऑन रोड़ कीमत समस्त राज्यों में लगने वाले आरटीओ रजिस्ट्रेशन तथा रोड टैक्स की वजह से भिन्न हो सकती है। महिंद्रा 585 डीआई एक्सपी प्लस ट्रैक्टर के साथ कंपनी 6 वर्ष की वारंटी प्रदान करती है।
रोटरी हार्वेस्टर मशीन पर 80 प्रतिशत सब्सिडी दे रही है ये राज्य सरकार, यहां करें आवेदन

रोटरी हार्वेस्टर मशीन पर 80 प्रतिशत सब्सिडी दे रही है ये राज्य सरकार, यहां करें आवेदन

रबी का सीजन प्रारंभ हो चुका है। ऐसे में खेतों की जुताई की जा रही है ताकि खेतों को बुवाई के लिए तैयार किया जा सके। बहुत सारे खेतों में अब भी पराली की समस्या बनी हुई है, जिसके कारण खेतों को पुनः तैयार करने में परेशानी आ रही है। खेतों से फसल अवशेषों को निपटाना बड़ा ही चुनौतीपूर्ण काम है, इसमें बहुत ज्यादा समय की बर्बादी होती है। अगर किसान एक बार पराली का प्रबंधन कर भी ले, तो इसके बाद भी खेत से बची-कुची ठूंठ को निकालने में भी किसान को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। लेकिन यदि आज की आधुनिक खेती की बात करें तो बाजार में ऐसी कई मशीनें मौजूद है जो इस समस्या का समाधान चुटकियों में कर देंगी। इन मशीनों के प्रयोग से अवशेष प्रबंधन के साथ-साथ खेतों की उर्वरा शक्ति में भी बढ़ोत्तरी होगी। ऐसी ही एक मशीन आजकल बाजार में आ रही है जिसे रोटरी हार्वेस्टर मशीन कहा जाता है। यह मशीन फसल के अवशेषों को नष्ट करके खेत में ही फैला देती है। यह मशीन किसानों के लिए बेहद उपयोगी साबित हो सकती है। इस मशीन के फायदों को देखते हुए बिहार सरकार ने मशीन की खरीद पर किसानों को 80 प्रतिशत तक की सब्सिडी देने के लिए कहा है।

क्या है रोटरी हार्वेस्टर मशीन

इस मशीन को रोटरी मल्चर भी कहा जाता है, यह मशीन बेहद आसानी से खेत में बचे हुए अनावश्यक अवशेषों को नष्ट करके खेत में फैला देती है, जिसके कारण खेत में पर्याप्त नमी बरकरार रहती है। इसके साथ ही खेत में फैले हुए अवशेष डीकंपोज होकर खाद में तब्दील हो जाते हैं। अवशेषों के प्रबंधन की बात करें तो यह मशीन खेत में उम्दा प्रदर्शन करती है।

ये भी पढ़ें: हरियाणा में किसानों को फसल अवशेष प्रबन्धन के लिए कृषि यंत्र अनुदान पर दिए जाएंगे

रोटरी हार्वेस्टर मशीन पर बिहार सरकार कितनी देती है सब्सिडी

अगर रोटरी हार्वेस्टर मशीन की बात करें तो उस मशीन पर बिहार सरकार किसानों को 75 से 80 प्रतिशत तक सब्सिडी प्रदान करती है। यह सब्सिडी बिहार का कृषि विभाग 'कृषि यंत्रीकरण योजना' के अंतर्गत किसानों को उपलब्ध करवाता है। बिहार सरकार के द्वारा जारी आदेश के अनुसार यदि बिहार का सामन्य वर्ग का किसान रोटरी हार्वेस्टर मशीन लेने के लिए आवेदन करता है, तो उसे बिहार सरकार मशीन की खरीद पर 75 प्रतिशत तक की सब्सिडी या अधिकतम 1,10,000 रुपये प्रदान करेगी। इसके साथ ही यदि बिहार का एससी-एसटी, ओबीसी और अन्य वर्ग का किसान रोटरी हार्वेस्टर मशीन खरीदना चाहता है, तो आवेदन करने के बाद सरकार उसे रोटरी मल्चर पर 80 प्रतिशत तक सब्सिडी और रूपये में अधिकतम 1,20,000 रुपये की सब्सिडी प्रदान करेगी।

ये भी पढ़ें: पराली से निपटने के लिए सरकार ने लिया एक्शन, बांटी जाएंगी 56000 मशीनें

रोटरी हार्वेस्टर मशीन पर सब्सिडी प्राप्त करने के लिए ऐसे करें आवेदन

बिहार सरकार के आदेश के अनुसार रोटरी हार्वेस्टर मशीन पर सब्सिडी प्राप्त करने के लिए किसान को बिहार का निवासी होना जरूरी है। साथ ही उसके पास कृषि योग्य भूमि भी होनी चाहिए। ऐसे किसान जो रोटरी हार्वेस्टर मशीन पर सब्सिडी प्राप्त चाहते हैं, वो बिहार कृषि विभाग के पोर्टल https://dbtagriculture.bihar.gov.in/ पर जाकर अपना ऑनलाइन आवेदन भर सकते हैं। किसानों को ऑनलाइन आवेदन भरते समय आधार कार्ड, पैन कार्ड, जमीन के कागजात, पासपोर्ट साइज फोटो, बैंक खाता संख्या और मोबाइल नंबर अपने साथ रखना चाहिए। इनकी डीटेल आवेदन भरते समय किसान से मांगी जाएगी। इसके अलावा यदि किसान कृषि यंत्रों से संबंधित किसी भी प्रकार की अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो वो कृषि विभाग के हेल्पलाइन नंबर 18003456214 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा कृषकों को कस्टम हायरिंग सेंटरों के जरिए किराये पर उपलब्ध कराई जा रही मशीनें

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा कृषकों को कस्टम हायरिंग सेंटरों के जरिए किराये पर उपलब्ध कराई जा रही मशीनें

किसान भाई कस्टम हायर‍िंग सेंटरों से मशीन क‍िराये पर लेकर खेती का कार्य सुगमता से कर सकते हैं। यदि आप सेंटर खोलने के ल‍िए इच्छुक हैं, तो आपको स्नातक की डिग्री चाहिए। सरकार 10 लाख रुपये तक की सब्स‍िडी प्रदान करेगी। एक सेंटर निर्मित करने के ल‍िए 25 लाख रुपये के निवेश की आवश्यकता पड़ेगी। मध्य प्रदेश सरकार का कहना है, क‍ि फसलों की उत्पादकता एवं क‍िसानों का मुनाफा बढ़ाने के ल‍िए कृषि क्षेत्र में मशीनों के उपयोग को प्रोत्साहन देना होगा। यह एक गलत धारणा है, कि मशीनीकरण से रोजगार के अवसरों में कोई गिरावट आती है। दरअसल, सच तो यह है क‍ि इससे रोजगार की नवीन संभावनाएं बनती हैं। राज्य में इस वक्त 3800 कस्टम हायरिंग केंद्र (CHC) मतलब मशीन बैंक कार्य कर रहे हैं, ज‍िन राज्यों में क‍िसान मशीनों का अधिक उपयोग करते हैं, वो खेती में काफी आगे हैं। इसके ल‍िए पंजाब एवं हर‍ियाणा को उदाहरण के तौर पर देखा जा सकता है। मध्य प्रदेश भी इस द‍िशा में आगे बढ़ने के प्रयास में जुटा हुआ है। इसकी तस्दीक यहां पर होने वाली ट्रैक्टर ब‍िक्री से की जा सकती है।

किसानों ने विगत पांच वर्षों में 1 लाख 23 हजार ट्रैक्टर खरीदें हैं

राज्य सरकार ने दावा किया है, क‍ि मध्य प्रदेश के किसानों ने 2018-19 से अब तक बीते पांच साल में 1 लाख 23 हजार ट्रैक्टर खरीदे हैं। ट्रैक्टर की ब‍िक्री कृष‍ि व‍िकास की न‍िशानी मानी जाती है। कस्टमर हायर‍िंग सेंटर
सहकारी समितियां, स्वयं सहायता समूह एवं ग्रामीण उद्यम‍ियों द्वारा संचालित किया जाता है। जिससे कि लघु एवं मध्यम कृषकों को कृषि यंत्रों की सुविधा सुगमता से मिल जाए। यहां पर 2012 में कस्टम हायरिंग सेंटर निर्माण की पहल की गई थी। ये भी पढ़े: सोनालिका ट्रैक्टर की बिक्री में 35.5% फीसदी की वृद्धि

किसान भाइयों को मशीन बैंक का फायदा कैसे मिलता है

कस्टम हायरिंग सेंटर इस उद्देश्य के साथ स्थापित किए गए हैं, कि वे 10 किलोमीटर के आस-पास के दायरे में लगभग 300 किसानों को सेवाएं दे सकें। इसके माध्यम से क‍िसान अपनी आवश्यकता की मशीनों को क‍िराये पर लेकर कृषि कार्य कर सकते हैं। इन केंद्रों की सेवाओं को अधिक फायदेमंद बनाने के लिए संख्या को सीमित रखा गया है। संपूर्ण राज्य में केवल 3800 मशीन बैंक कार्य कर रहे हैं। कस्टम हायरिंग सेंटर से लघु व सीमांत किसानों को किराये पर मशीन उपलब्ध कराई जाती है, जिसके लिए भारी पूंजी निवेश की जरूरत होती है। राज्य सरकार 40.00 लाख से लेकर 2.50 करोड़ तक की कीमत वाली नवीन और आधुनिक कृषि मशीनों के लिए हाई-टेक हब तैयार कर रही है। अब तक 85 गन्ना हार्वेस्टर्स के हब निर्मित हो गए हैं। यह जानकारी मध्य प्रदेश के कृषि अभियांत्रिकी संचालक राजीव चौधरी द्वारा साझा की गई है।

प्रदेश के युवाओं के ल‍िए रोजगार के अवसर प्रदान किए जा रहे हैं

किसानों को कस्टम हायरिंग सेंटर का फायदा देने एवं किराये पर उपलब्ध कृषि मशीनों के संबंध में जागरूक करने के लिए एक अभ‍ियान जारी क‍िया गया है। कस्टम हायरिंग सेंटर पर किसानों के ज्ञान एवं कौशल में सुधार करने के लिए प्रशिक्षण एवं कार्यशालाएं आयोजित की जा रही हैं। कौशल विकास केंद्र भोपाल, जबलपुर, सतना, सागर, ग्वालियर, इंदौर, भोपाल, जबलपुर और सतना में ऐसा कार्यक्रम चल रहा है। इनमें ट्रैक्टर मैकेनिक एवं कंम्बाइन हार्वेस्टर ऑपरेटर कोर्स आयोजित किए जा रहे हैं। अब तक 4800 ग्रामीण युवाओं को प्रशिक्षित क‍िया जा चुका है। ये भी पढ़े: खरीफ की फसल की कटाई के लिए खरीदें ट्रैक्टर कंबाइन हार्वेस्टर, यहां मिल रही है 40 प्रतिशत तक सब्सिडी

युवा किसान किस प्रकार मशीन बैंक खोल सकते हैं

ग्रामीण युवा स्नातक की डिग्री के साथ इस योजना का फायदा ले सकते हैं। इसमें समकुल 25 लाख रुपये के निवेश की आवश्यकता होती है। युवाओं को 5 लाख रुपये की मार्जिन धनराशि देनी पड़ती है। सरकार समकुल लागत का 40 प्रतिशत अनुदान देती है, जो अधिकतम 10 लाख तक होती है। अतिरिक्त लागत बैंक लोन से कवर हो जाती है। किसानों के हित में केंद्र व राज्य सरकारें अपने-अपने स्तर से योजनाएं चलाती हैं।
इस राज्य में कृषकों के लिए 110 तरह के कृषि यंत्रों पर मिल रही बंपर सब्सिड़ी

इस राज्य में कृषकों के लिए 110 तरह के कृषि यंत्रों पर मिल रही बंपर सब्सिड़ी

कृषि यांत्रिकरण योजना के अंतर्गत दिए जाने वाले अनुदान के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 10 अक्टूबर, 2023 से शुरू कर दी जाएगी। इस दौरान बिहार राज्य के किसान पंजीकरण कर 110 तरह के कृषि यंत्रों पर अनुदान प्राप्त कर सकते हैं। खेती-किसानी में मशीनीकरण के आने के उपरांत किसानों की स्थिति में निरंतर बदलाव देखने को मिल रहे हैं। कृषि कंपनियों के माध्यम से भी किसानों की सुविधा को मद्देनजर रखते हुए नवीन-नवीन मशीनों का निर्माण किया जा रहा है। साथ ही, भारत सरकार की तरफ से भी कृषि उपकरणों को खरीदने के लिए वक्त-वक्त पर योजनाएं भी जारी की जाती हैं। इसी कड़ी में बिहार सरकार ने प्रदेश के लघु किसानों को कृषि उपकरणों का फायदा उपलब्ध कराने के लिए कृषि यांत्रिकरण योजना की शुरुआत की है।

कृषि यंत्रो पर 40 से लेकर 80 प्रतिशत तक अनुदान

इस योजना के अंतर्गत राज्य के किसानों को कृषि यंत्र खरीदने के लिए 40 से 80 प्रतिशत तक अनुदान की सुविधा मुहैय्या कराई जाती है। आपकी जानकारी के लिए बतादें, कि सरकार की इस योजना के लिए प्रति वर्ष किसानों के आवेदन मांगे जाते हैं। साथ ही, बिहार सरकार ने कृषि यांत्रिकरण योजना को लेकर एक बड़ा ऐलान किया है। बतादें, कि 10 अक्टूबर, 2023 से बिहार राज्य के कृषकों के लिए कृषि यांत्रिकरण योजना में पंजीकरण की प्रक्रिया आरंभ की जाएगी।

ये भी पढ़ें:
किसानों को सस्ते में मिलेंगे कृषि यंत्र, सरकार दे रही 50% सब्सिडी

बिहार सरकार की तरफ से 110 कृषि यंत्रों पर अनुदान दिया जा रहा है

कृषि यांत्रिकरण योजना में बिहार के किसानों को समकुल 110 तरह के बेहतरीन कृषि यंत्रों पर सब्सिड़ी प्रदान की जाती है। खेती-किसानी के ये उपकरण खेती से जुड़े तकरीबन प्रत्येक कार्य को सुगम बनाने में संभव हैं। जैसे कि- खेत की जुताई, बुवाई, निराई-गुड़ाई, सिंचाई, कटाई एवं बाकी बहुत सारे कार्यों को मिनटों में पूर्ण कर सकते हैं। बतादें, कि इन कृषि मशीनों के लिए बिहार सरकार ने वर्ष 2023-24 में लगभग 119 करोड़ रुपये की लागत का प्लान तैयार किया है।

पंजीकरण की प्रक्रिया 10 अक्टूबर से शुरू हो जाएगी

बिहार राज्य के किसान कृषि यांत्रिकरण योजना के अंतर्गत लाभ उठाना चाहते हैं, तो वह 10 अक्टूबर, 2023 से कृषि यंत्रों की खरीद पर अनुदान पाने के लिए पंजीकरण की प्रक्रिया को पूर्ण कर दें। दरअसल, पंजीकरण की यह प्रक्रिया 1 महीने मतलब कि 10 नवंबर, 2023 तक जारी रहेगी। इस दौरान इच्छुक किसान भाई इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

योजना के लिए बेहद महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • बैंक पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • कृषि यांत्रिकरण योजना में पंजीकरण की प्रक्रिया
  • इस योजना का फायदा पाने हेतु इच्छुक कृषकों को बिहार कृषि विभाग पोर्टल की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपको होम पेज के कृषि यांत्रिकरण योजना विकल्प पर क्लिक करना है। फिर आपको कृषि यांत्रिकरण योजना के अंतर्गत पंजीकरण की प्रक्रिया को पूर्ण करना है।
पराली जलाने के बढ़ते मामलों की वजह से विषैली हुई कई शहरों की हवा

पराली जलाने के बढ़ते मामलों की वजह से विषैली हुई कई शहरों की हवा

किसान भाइयों जैसा कि आप जानते हैं वर्तमान में धान की कटाई का समय चल रहा है। दरअसल, प्रति वर्ष पंजाब एवं हरियाणा की सरकारें किसानों पर कड़ाई करने व पराली जलाने से रोकने की बात तो करती हैं। परंतु, वास्तविकता में किसान निरंतर पराली जलाने में जुटे हुए हैं। इसी कारण से पराली जलाने से जो प्रदूषण फैल रहा है, उसके कारण दिल्ली-एनसीआर का AQI यानी वायु गुणवत्ता सूचकाँक निरंतर खतरनाक स्तर की तरफ बढ़ रहा है। पंजाब और हरियाणा राज्य से विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी पराली का खतरा बढ़ना शुरू हो गया है। बतादें, दोनों राज्यों की सरकार की सख्ती के पश्चात भी किसान खुले मैदानों में पराली जलाते दिख रहे हैं। पराली जलने की वजह से उठने वाला धुंआ पंजाब, हरियाणा सहित दिल्ली-एनसीआर के लोगों की सांसों के लिए घातक साबित हो रहा है। दिल्ली-एनसीआर में CPCB द्वारा की गई मॉनिटरिंग में औसत AQI 263 रिपोर्ट हुआ है। इसकी वजह से लोगों के ऊपर गंभीर बीमारियों का खतरा मंडरा रहा है। पंजाब और हरियाणा राज्यों में निरंतर पराली को आग लगाई जा रही है। जैसे-जैसे धान की कटाई का सीजन आगे बढ़ रहा है, वैसे-वैसे पराली जलाने के मामले भी निरंतरता से बढ़ रहे हैं। पराली में आग लगाने से जो धुआं और प्रदूषण उत्पन्न हो रहा है, उसकी वजह से दिल्ली-एनसीआर सहित हरियाणा के भी बहुत सारे शहरों का AQI काफी खराब स्तर पर पहुंच चुका है।

पंजाब में बेखौफ पराली को आग के हवाले किया जा रहा है

पंजाब राज्य के अंदर भले ही पराली जलाने के मामले कम होने का दावा किया जा रहा हो, परंतु खुलेआम पराली जलाने का सिलसिला भी निरंतर जारी है। चंडीगढ़ के आसपास डेराबस्सी में हाईवे के किनारे ही सरेआम पराली जलती नजर आई। स्थिति आज यह है, कि यदि आप पंजाब एवं हरियाणा में किसी भी नेशनल हाईवे से गुजरते हैं, तो सड़क के किनारे जले हुए काले खेत नजर आऐंगे। जहां पर पराली पूर्णतय खाक में बदली नजर आएगी। किसान चालाकी से अपने खेत में पराली को आग लगा देते हैं और उसके पश्चात अपने खेतों से नौ दो ग्यारह हो जाते हैं, जिससे कि उन पर कोई कानूनी कार्यवाही ना हो सके।

ये भी पढ़ें:
हरियाणा सरकार ने पराली आदि जैसे अवशेषों से पर्यावरण को बचाने की योजना बनाई

हरियाणा में जागरूक किसान पराली का उचित प्रबंधन कर रहे हैं

आपकी जानकारी के लिए बतादें, कि ऐसे किसान भी हैं, जो पराली को आग के हवाले ना करके उसका प्रबंधन करने में विश्वास रखते हैं। पंचकूला के नग्गल गांव में किसान सुपर सीडर मशीन के माध्यम से पराली को खेतों में ही खाद की भांति उपयोग करने एवं सीधे गेहूं के बीज की बुवाई करते नजर आए। इन किसानों का कहना है, कि जो किसान महंगी मशीनें खरीद सकते हैं, वो तो पराली का प्रबंधन कर लेता है। परंतु, लघु व सीमांत किसानों के पास पराली को आग लगाने के अतिरिक्त कोई रास्ता नहीं है।

किसानों को सरकार से क्या शिकायत है

पंचकूला के मनकइया गांव में कुछ किसान पारंपरिक ढ़ंग से धान की फसल की कटाई के उपरांत पराली के ढेर बना रहे हैं। परंतु, उन्हें भी शिकायत इस बात की है, कि वो मजदूर लगाकर पराली को जलाने की बजाय उसका प्रबंधन कर रहे हैं। परंतु, सरकार की ओर से उन्हें ना तो कोई सहायता मिली है और ना ही किसी प्रकार का कोई अनुदान दिया गया है। उन्हें अपने स्वयं के खर्चे पर ही पराली का प्रबंधन करना पड़ रहा है।

ये भी पढ़ें:
पराली से होने वाले प्रदूषण को लेकर किसान हुए जागरुक इन राज्यों में इतने प्रतिशत मामले हुए कम

पहले से काफी मामले घटे हैं

पंजाब में विगत साल के मुकाबले में इस वर्ष पराली जलाने के मामलों में गिरावट आई है। राज्य में अब तक 1764 जगहों पर पराली जलाने की घटनाएं सामने आ चुकी हैं। ये आंकड़े विगत 2 वर्षों में सबसे कम हैं। इसी समयावधि में अब तक 2021 में 4327 और 2022 में 3114 मामले दर्ज किए गए थे। अगर हम हरियाणा राज्य की बात करें तो इस सीजन में यहां पराली जलाने के 714 मामले सामने आ चुके हैं। हालांकि, विगत वर्ष की अपेक्षा में देखा जाए, तो विगत वर्ष अब तक 893 मामले सामने आए थे। यदि हरियाणा-पंजाब राज्यों की सरकार किसानों को पूरी तरह जागरूक करके उन्हें संसाधन मुहैय्या कराती है, तो पराली की चुनौती से छुटकारा मिल सकता है। बतादें, कि हरियाणा के कुछ शहरों का रिकॉर्ड किया गया AQI भयावह है। दरअसल, करनाल-243, रोहतक-182, जींद-155, फरीदाबाद-322, बहादुरगढ़-284, कैथल-269, कुरुक्षेत्र-256 और गुरुग्राम में 255 वायु गुणवत्ता सूचकाँक दर्ज किया गया।