किसान ने पारंपरिक खेती छोड़ वैज्ञानिक विधि से धनिया की खेती कर कमाया मोटा मुनाफा

Published on: 03-Aug-2023

किसान रमेश विठ्ठलराव विगत दिनों अंगूर की खेती करते थे। परंतु, अंगूर की खेती में उन्हें घाटा उठाना पड़ा। इसके पश्चात उन्होंने धनिया की खेती करना चालू कर दिया। विशेष बात यह है, कि धनिया की खेती शुरू करने पर प्रथम वर्ष ही रमेश विठ्ठलराव को 25 लाख रुपये का मुनाफा अर्जित हुआ। लोगों का मानना है, कि सिर्फ गेहूं, मक्का, बाजार और धान जैसी पारंपरिक फसलों की खेती से ही बेहतरीन आमदनी की जा सकती है। परंतु, इस तरह की कोई बात नहीं है। अगर कृषक भाई आधुनिक विधि से हरी सब्जी एवं मसाले की खेती करते हैं, तो बहुत ही कम वक्त में वह धनवान बन सकते हैं। महाराष्ट्र के लातुर जनपद में एक किसान ने कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है। वह धनिया की खेती से धनवान हो गया है। अब उनकी चर्चा संपूर्ण जनपद में हो रही है। लोग उनसे धनिया की खेती करने के गुर सीख रहे हैं।

रमेश ने पारंपरिक खेती छोड़ वैज्ञानिक विधि से धनिया की खेती की

जानकारी के अनुसार, किसान का नाम रमेश विठ्ठलराव है। पहले वह पारंपरिक फसलों की खेती किया करते थे। इससे उन्हें इतनी ज्यादा आमदनी नहीं हो रही थी। ऐसी स्थिति में उन्होंने 4 साल पहले पारंपरिक फसलों की खेती छोड़ वैज्ञानिक विधि से धनिया की खेती चालू कर दी। मुख्य बात यह है, कि धनिया की खेती चालू करते ही रमेश विठ्ठलराव की किस्मत चमक गई। उन्होंने धनिया बेचकर बेहद ही आलीशान घर बनवाया है, जिसकी सुन्दरता वास्तव में देखने लायक है।

ये भी पढ़ें:
जानिए कैसे की जाती है धनिया की खेती? ये किस्में देंगी अधिक उत्पादन

रमेश विठ्ठलराव विगत चार वर्षों से 5 एकड़ जमीन में धनिया की खेती कर रहे हैं।

रमेश विठ्ठलराव विगत चार वर्षों से 5 एकड़ जमीन में धनिया की खेती कर रहे हैं। उन्होंने बताया है, कि धनिया बेचकर अभी तक वे लाखों रुपये की आमदनी कर चुके हैं। रमेश विठ्ठलराव की मानें तो लातूर जनपद सूखा प्रभावित क्षेत्र है। यहां पर बहुत ही कम बारिश होती है। ऐसी स्थिति में पारंपरिक फसलों की खेती से किसानों को उतनी अच्छी आमदनी नहीं हो पाती है। बहुत बार तो कृषक भाई लागत तक भी नहीं निकाल पाते हैं। यही वजह है, कि मैंने धनिया की खेती करने का निर्णय लिया।

रमेश ने वर्ष 2019 में धनिया उत्पादन आरंभ किया था

विशेष बात यह है, कि किसान रमेश ने वर्ष 2019 में धनिया की खेती की शुरुआत की थी। पहले वर्ष ही उन्हें धनिया बेचकर 25 लाख रुपये की आय अर्जित हुई। बतादें, कि 5 एकड़ जमीन में धनिया बोने में उन्हें सिर्फ एक लाख रुपये की लागत लगानी पड़ी। इस प्रकार उन्होंने 24 लाख रुपये का शुद्ध मुनाफा अर्जित किया। इसी प्रकार उन्होंने साल 2020 में 16 लाख, साल 2021 में 14 लाख, 2022 में 13 लाख रुपये का धनिया बेचा। इस साल भी वे अभी तक धनिया बेचकर 16 लाख 30 हजार रुपए कमा चुके हैं। इस प्रकार रमेश ने धनिया बेचकर कुल 84 लाख रुपये से भी ज्यादा की कमाई करली है।

श्रेणी