Ad

केसर

केसर आम की विशेषताएं

केसर आम की विशेषताएं

फलों का राजा आम जिसकी विभिन्न विभिन्न प्रकार की किस्में मौजूद है। उन किस्मों में से एक किस्म केसर आम की है। गर्मियों का मौसम आते ही सबसे पहला नाम आम का आता है। लोग गर्मी को आम की वजह से पसंद करते है। क्योंकि गर्मी के मौसम में अलग अलग प्रकार की आम की किस्म आती है जिसे लोग बड़े शौक से खाते हैं। केसर आम से जुड़ी विशेषताओं के बारे में जानने के लिए हमारी इस पोस्ट के अंत तक जरूर बने रहे:

केसर आम

केसर आम की खुशबू एकदम केसर जैसी होती है यह केसर आम स्वाद में बहुत ही मीठा होता है। केसर आम की मुख्य पैदावार जूनागढ़ और अमरेली जिले में मौजूद गिर्नार पर्वत के तलहटी में केसर आम का उत्पादन होता है। कहा जाता है कि केसर आम को भौगोलिक संकेत की भी प्राप्ति है।

इस आम का नाम केसर आम क्यों पड़ा

प्राप्त की गई जानकारियों के अनुसार इस आम को केसर के नाम से इसलिए पुकारा जाता है। क्योंकि इस आम में केसर की खुशबू आती है इसीलिए इसका नाम केसर आम पड़ा। केसर आम की पैदावार उत्तर प्रदेश में बहुत ही ज्यादा मात्रा में होती है।

ये भी पढ़ें: दशहरी आम की विशेषताएं

केसर आम का इतिहास

कृषि विशेषज्ञों के अनुसार केसर आम को वजीर सेल भाई द्वारा वनथाली में उगाया गया था। सन 1931के करीब जूनागढ़ में केसर आम का उत्पादन किया गया था। केसर आम को गिरनार की तलहटी और जूनागढ़ के समीप लाल डोरी फॉर्म में 75 से 80 ग्राफ्ट तक लगाया गया था। केसर आम की पहचान और इसका नाम 1934 में केसर के रूप में लोगों के बीच जाना जाने लगा। मोहम्मद महाबत खान जो जूनागढ़ के नवाब कहे जाते थे। जब उन्होंने इस नारंगी और खूबसूरत फल को देखा , देखते ही उन्होंने कहा या तो केसर है। तब से इस आम को केसर के नाम से ही जाना जाता है।

केसर आम का उत्पादन

हर साल केसर आम का उत्पादन लगभग 20,000 हेक्टेयर क्षेत्र की दर पर उगाया जाता है। केसर आम की इस उत्पादकता को गुजरात के सौराष्ट्र के जूनागढ़ तथा अमरेली जिले में उगाया जाता हैं। कृषि केंद्र परिषद के अनुसार केसर आम का वार्षिक उत्पादन करीबन दो लाख टन के समीप होता है। अभयारण्य क्षेत्र में केसर आम को गिर केसर आम के नाम से भी पुकारा जाता है। केसर आम की किस्म बाकी किस्मों से बहुत ही ज्यादा महंगी होती है

ये भी पढ़ें: हापुस आम की पूरी जानकारी (अलफांसो)

केसर आम को जीआई टैग की अनुमति

केसर आम का भौगोलिक पंजीकरण का प्रस्ताव गुजरात के एग्रो इंडस्ट्रीज कॉरपोरेशन द्वारा रखा गया था। प्रस्ताव के स्वीकार हो जाने के बाद केसर आम को जीआई टैग की प्राप्ति हुई। जीआई टैग के तहत केसर आम को विभिन्न विभिन्न देशों में भेजा जा सकता है। जिसे स्कैन कर केसर आम का मुख्य पता और जानकारी जान सकेंगे।

केसर आम का रोपण

केसर आम का वृक्ष रोपण करने से पहले किसान कुछ देर के लिए बीजों को डाइमेथोएट में डूबा कर रखते हैं। इस क्रिया द्वारा फसल में किसी भी तरह का कोई नुकसान नहीं होता और आम की फसल पूरी तरह से सुरक्षित रहती हैं। बीजों को थोड़ी थोड़ी दूरी पर रोपण करते हैं और हल्का पानी का छिड़काव करते हैं।

ये भी पढ़ें: लंगड़ा आम की विशेषताएं

केसर आम के लिए उपयुक्त जलवायु

केसर आम की खेती दो प्रकार की जलवायु में सबसे सर्वोत्तम होती है पहली उष्ण और दूसरी समशीतोष्ण जलवायु , दोनों ही जलवायु सबसे अच्छी जलवायु मानी जाती है केसर आम की खेती के करने के लिए। केसर आम की खेती के लिए तापमान करीब 23 .1 से लेकर 26 .6 डिग्री सेल्सियस सबसे उत्तम माना जाता है। केसर आम की खेती आप किसी भी तरह की भूमि में आराम से कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: आम के फूल व फलन को मार्च में गिरने से ऐसे रोकें : आम के पेड़ के रोगों के उपचार

केसर आम के लिए उपयुक्त सिचाई

केसर आम की फसल की सिंचाई लगभग एक से 2 दिन के अंतराल पर करनी चाहिए। केसर आम की फसल के लिए मिट्टी और जलवायु दोनों का खास ख्याल रखना चाहिए।बीच-बीच में लगातार हल्की हल्की सिंचाई करते रहे। हल्की सिंचाई लगातार करते रहने से अच्छा उत्पादन होता है। गर्मियों के मौसम में कम से कम 7 से 8 दिनों के भीतर सिंचाई करते रहना चाहिए। केसरआम जब पूर्ण रूप से विकसित हो जाए तब हल्की सिंचाई की आवश्यकता होती है।

ये भी पढ़ें: आम की बागवानी से कमाई

केसर आम की सप्लाई

पिछले साल की ही बात है केसर आम बहुत ही ज्यादा चर्चा में था। जब केसर आम मार्केट में आया था। तब इसका वजन लगभग 250 ग्राम से लेकर 400 ग्राम तक का था। अपनी इन खूबियों के चलते केसर आम मार्केट में बहुत ही ज्यादा लोकप्रिय हो गया था। लोगों में केसर आम की मांग काफी बढ़ गई थी कुछ ऐसे राज्य हैं जहां यह आम सप्लाई होने लगे थे। जैसे: कोलकाता , दिल्ली, हैदराबाद बेंगलुरु, रायपुर , आदि जगह केसर आम की सप्लाई तेजी से बढ़ने लगी।

केसर आम खाने के फायदे

केसर आम खाने के बहुत सारे फायदे हैं और यह फायदे कुछ इस प्रकार है:
  • सबसे पहले बात इसके स्वाद की करे, तो केसर आम स्वाद में सबसे बेहतर होता है। इसमें केसर की भीनी खुशबू आती है और देखने में बहुत ही आकर्षित लगता है।
  • यदि आप केसर आम खाते हैं तो आपका चेहरा चमकता हुआ दिखाई देगा। रोजाना केसर आम खाने से चेहरे का ग्लो बढ़ता है स्किन सॉफ्ट रहती है।
  • केसर आम में मौजूद पोषक तत्व आपको गर्मी में लू लगने से बचाव करते हैं।
  • केसर आम में एंटीऑक्सीडेंट जैसे आवश्यक तत्व मौजूद होते हैं। यह आवश्यक तत्व हमारे शरीर को स्वस्थ रखते हैं।
  • हमारी पाचन क्रिया को मजबूत बनाते हैं आंखों की रोशनी को बढ़ाते हैं गिरते हुए बालों की समस्या को दूर करते हैं।
  • केसर आम का सेवन करने से हमारे शरीर का कोलेस्ट्रॉल काफी बेहतर रहता है। हमारे शरीर का वजन सामान्य रहता है।
  • किसानों को केसर आम की फसल से बहुत अच्छा मुनाफा होता है जिससे वह आय निर्यात की प्राप्ति कर लेते हैं।
दोस्तों हम उम्मीद करते हैं , आपको हमारा यह आर्टिकल केसर आम की विशेषताएं पसंद आया होगा। इस आर्टिकल में केसर आम से जुड़ी सभी प्रकार की आवश्यक बातें और जानकारियां मौजूद है। यदि आप हमारी दी गई जानकारियों से संतुष्ट है। तो हमारे इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया और दोस्तों के साथ शेयर करें । धन्यवाद।
वैज्ञानिकों के निरंतर प्रयास से इस राज्य के गाँव में हुआ केसर का उत्पादन

वैज्ञानिकों के निरंतर प्रयास से इस राज्य के गाँव में हुआ केसर का उत्पादन

कश्मीर केसर की पैदावार के मामले में अलग ही पहचान रखता है। पहली बार इसका उत्पादन सिक्किम के एक गांव में किया गया था। वैज्ञानिक अब इस फसल का रकबा मेघालय एवं अरुणांचल प्रदेश की तरफ विस्तृत कर रहे हैं। केसर सुगंध एवं औषधीय गुणों की विशेषता की वजह से जानी जाती है। भारत का कश्मीर बड़े पैमाने पर केसर की फसल का उत्पादन करता है। कश्मीर का केसर देश के साथ-साथ दुनियाभर में अपनी बेहतरीन पहचान रखता है। केंद्र सरकार द्वारा बीते काफी वक्त से केसर की खेती का रकबा बढ़ाने की कोशिश में जुटी हुई है। साथ ही, केसर का उत्पादन कश्मीर के अतिरिक्त अन्य राज्यों में भी किया जाना चाहिए। फिलहाल वैज्ञानिकों द्वारा अद्भुत कार्य कर दिया गया है, जिसके परिणामस्वरूप कश्मीर के अलावा भी अन्य राज्यों में केसर की फसल होगी।

सिक्किम के किस गाँव में की गयी केसर की खेती

मीडिया खबरों के मुताबिक, वैज्ञानिक काफी वक्त से प्रयासरत थे, कि कश्मीर के अतिरिक्त अन्य प्रदेशों में भी केसर की पैदावार की जा सके। साथ ही इसके रकबे को बढ़ाने में भी लगे हुए थे। नॉर्थ ईस्ट सेंटर फॉर टेक्नोलॉजी एप्लीकेशन एंड रिसर्च द्वारा बहुत पहले से इस विषय पर शोध किया जा रहा था। नतीजतन दक्षिण सिक्किम में उपस्थित यांगतांग गांव में प्रथम बार केसर का सफलतापूर्वक उत्पादन एवं खेती हुई है। सामने आये परिणामों की वजह से वैज्ञानिक बेहद खुश दिखाई दे रहे हैं।

इन राज्यों में बढ़ाया जायेगा केसर का उत्पादन

सिक्किम के उपरांत वैज्ञानिक फिलहाल दूसरे प्रदेशों तक बढ़ावा देने हेतु प्रयासरत हैं। आज केसर की बुवाई अरुणाचल प्रदेश में तवांग एवं मेघालय के बारापानी तक विस्तृत की जा रही है। मीडिया खबरों के मुताबिक, बहुत वक्त पूर्व सिक्किम सरकार द्वारा अपने राज्य के अलग अलग इलाकों में केसर की खेती की जाने की संभावना देखी गयी। क्योंकि सिक्किम की भूमि केसर की खेती हेतु उपयुक्त मानी गयी है। बतादें, कि पूर्वी सिक्किम में खमडोंग, पदमचेन, पंगतांग, सिमिक एवं समीपवर्ती इलाकों को केसर की बुवाई हेतु चिन्हित किया गया है। सिक्किम के अधिकारियों द्वारा जम्मू कश्मीर में पहुँच केसर की स्थिति का मुआयना किया जा चुका है।
ये भी पढ़े: इन फसलों को कम भूमि में भी उगाकर उठाया जा सकता है लाखों का मुनाफा

जानिए किस वजह से हो रही है केसर की खेती सफल

जम्मू कश्मीर एवं सिक्किम के बागवानी विभाग के अधिकारी केसर की पैदावार को लेकर निरंतर संपर्क साधे हुए हैं। इसके लिए अधिकारियों को प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। अधिकारियों के मुताबिक, किसी भी फसल का उत्पादन पर्यावरण पर काफी ज्यादा निर्भर होता है। यदि हम केसर की खेती के बारे में बात करें तो कश्मीर एवं सिक्किम मौसमिक एवं भौगोलिक दृष्टि से एक समान ही हैं। मीडिया खबरों के मुताबिक, अधिकारिक रूप से यह सिद्ध किया गया है, कि सिक्किम सरकार द्वारा करीब डेढ़ एकड़ रकबे में केसर का उत्पादन किया जाता है। जिसका अच्छा खासा परिणाम भी देखने को मिला है।

जमीन के छोटे से भाग में किया गया केसर का उत्पादन

मीडिया खबरों के मुताबिक, सिक्किम के गवर्नर गंगा प्रसाद ने बताया था, कि मिशन 2020 में सिक्किम विश्वविद्यालय की निगरानी में जमीन के छोटे से भाग पर केसर का उत्पादन किया गया था। परिणामस्वरूप उस भूमि में बेहद अच्छा उत्पादन भी हुआ था। परिणामों को देखने के बाद केसर को अन्य राज्यों के दूसरे हिस्सों में बोने का फैसला लिया गया है। प्रदेश में 80 फीसद की दर से केसर का उत्पादन हुआ है।
इन फसलों को कम भूमि में भी उगाकर उठाया जा सकता है लाखों का मुनाफा

इन फसलों को कम भूमि में भी उगाकर उठाया जा सकता है लाखों का मुनाफा

आइये अब जानते हैं, उन फसलों के बारे में जिनकी सहायता से किसान कुछ समय में ही लाखों का मुनाफा कमा सकते हैं। जिसमें कॉफी, लैवेंडर, माइक्रो ग्रीन (microgreen), मशरूम और केसर ये पांच ऐसी फसलें हैं, जो कम जमीन में कम लागत में कम समय में लाखों का मुनाफा प्रदान करने में बेहद सहायक साबित होती हैं, क्योंकि इनकी बाजार में कीमत अच्छी खासी मिलती है। साथ ही इनका बाजार भाव भी अच्छा होता है क्योंकि इन फसलों के प्रयोग से कई तरह के जरुरी और महंगे उत्पाद तैयार किये जाते हैं। जिसकी वजह से इन सभी फसलों के भाव अच्छे खासे प्राप्त हो जाते हैं।

केसर की खेती

बतादें कि, केसर का उत्पादन अधिकतर जम्मू कश्मीर में होता है, जहां केंद्र सरकार द्वारा एक केसर पार्क की भी स्थापना की गयी है, जिसकी वजह से केसर का भाव अब दोगुना हो गया है। केसर का उपयोग विभिन्न प्रकार के उत्पादों में किया जाता है, जिसकी वजह से किसान इसका उत्पादन कर लाखों कमा सकते हैं।

लैवेंडर की खेती

लैवेंडर की खेती भी कोई कम नहीं, लैवेंडर का उपयोग खुशबू उत्पन्न करने वाले उत्पादों में किया जाता है जैसे कि धूप बत्ती इत्र आदि जिनकी बाजार में कीमत आप भली भांति जानते ही हैं। लैवेंडर अच्छी उपयोगिता और अच्छे गुणों से विघमान फसल है जिसकी मांग हमेसा से बाजार में अच्छे पैमाने पर रही है।
ये भी पढ़े: इन पौधों के डर से मच्छर भागें घर से

मशरूम की खेती

अब बात करें मशरूम की तो इसका उत्पादन मात्र १ माह के करीब हो जाता है और इसका बाजार में भी अच्छा खासा भाव मिलता है। इसका जिक्र हमने कुछ दिन पूर्व अपने एक लेख में किया था। लॉकडाउन के समय बिहार में बेसहारा लोगों ने अपनी झुग्गी झोपड़ियों व उसके समीप स्थान पर मशरूम की खेती उगा कर अपनी आजीविका को चलाया था।

कॉफी की खेती

अब हम जिक्र करते हैं, दुनिया भर की बेहद आबादी में सबसे अधिक प्रचलित कॉफी के बारे में। इसकी पूरी दुनिया में खूब मांग होती है, इस कारण से इसका अच्छा भाव प्राप्त होता है। इसलिए किसानों को कॉफी का उत्पादन कर अच्छा खासा मुनाफा कमा लेना चाहिए। कॉफी उत्पादन करने वाले किसान बेहद फायदे में रहते हैं।

माईक्रोग्रीन

माइक्रोग्रीन्स बनाने के लिए के लिए धनिया, सरसों, तुलसी, मूली, प्याज, गाजर, पुदीना, मूंग, कुल्फा, मेथी आदि के पौधों के बीज उपयुक्त होते हैं।माईक्रोग्रीन में इन बीजों को अंकुरित करके फिर बोना चाहिये, अंकुरित पौधों को हफ्ते-दो हफ्ते 4-5 इंच तक बढ़ने देते हैं। उसके बाद कोमल पौधों को तने, पत्तियों और बीज सहित काटकर इस्तेमाल किया जाता है, इसे सलाद या सूप की तरह प्रयोग करते हैं. माइक्रोग्रीन औषधीय गुण से परिपूर्ण होने के साथ ही घर में ताजी हवा का संचार भी बढ़ता है। आपको बतादें कि उपरोक्त में बताई गयी सभी फसलों का उत्पादन कर किसान कुछ समय के अंदर ही लाखों का मुनाफा कमा सकते हैं और अपनी १ या २ एकड़ भूमि में ही अच्छी खासी पैदावार कर सकते हैं। किसानों को अपनी अच्छी पैदावार लेने के लिए बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। जैसे कि बारिश, आंधी-तूफान एवं अन्य प्राकृतिक आपदाओं के साथ साथ फसल का उचित मूल्य प्राप्त न होना जैसी गंभीर समस्याओं से जूझने के साथ ही काफी जोखिम भी उठाना पड़ता है। अब मौसमिक असंभावनाओं के चलते किसान कम भूमि में अधिक उत्पादन देने वाली फसलों की ओर रुख करें तो उनको हानि की अपेक्षा लाभ की संभावना अधिक होगी। इस प्रकार का उत्पादन उपरोक्त में दी गयी फसलों से प्राप्त हो सकता है, जिसमें कॉफी, लैवेंडर, केसर, माइक्रो ग्रीन्स एवं मशरूम की फायदेमंद व मुनाफा देने वाली फसल सम्मिलित हैं। किसान इन फसलों को उगा कर अच्छा खासा मुनाफा उठा सकते हैं, इनमे ज्यादा जोखिम भी नहीं होता है, साथ ही इन सभी फसलों का बाजार मूल्य एवं मांग अच्छी रहती है।
केसर की खेती किसानों के लिए किस तरह से लाभदायक है

केसर की खेती किसानों के लिए किस तरह से लाभदायक है

केसर का उत्पादन करके कृषक शानदार मुनाफा अर्जित कर सकते है। बाजार के अंदर एक किलो केसर का भाव लाखों तक रहता है। भारत में विभिन्न प्रकार के फलों, सब्जियों और मसालों की खेती की जाती है। परंतु, भारत में उत्पादित की जाने वाली केसर की सुगंध ही कुछ अलग होती है। दुनिया भर में जिसकी खुशबू के लोग दीवाने हैं। परंतु, इसका नाम कान में पड़ते ही सबसे पहले जेहन में इसकी कीमत आती है। केसर काफी ज्यादा महंगी बिकती है। इसकी कीमत हजारों में होती है। आइए जानते हैं, कि कौन लोग इसकी पैदावार कर काफी मोटा पैसा कमा सकते हैं।

केसर का उपयोग औषधि निर्मित करने में किया जाता है

केसर का उपयोग खाने के स्वाद में चार-चांद लगाने के साथ-साथ औषधि निर्मित करने में भी किया जाता है।
केसर की खेती विशेष रूप से उत्तर भारत के कुछ राज्यों में की जाती है। इन राज्यों में जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश प्रमुख तौर पर अपनी भूमिका अदा करते हैं। यहां के अनुकूल मौसम एवं लाल मिट्टी की वजह से यहां केसर की काफी अच्छी पैदावार होती है। इसकी खेती लोगों के लिए आर्थिक तौर पर भी लाभकारी साबित होती है।

ये भी पढ़ें:
रिटायर्ड इंजीनियर ने नोएडा में उगाया कश्मीरी केसर, हुआ बंपर मुनाफा

केसर के फूल का रंग कैसा होता है

आपकी जानकारी के लिए बतादें, कि जब केसर के पौधों में फूल आते हैं। ऐसे में केसर के फूलों को तोड़ लिया जाता है। केसर का फूल हल्के बैंगनी रंग का होता है। इसके भीतर पुंकेसर लाल अथवा केसरी रंग का होता है। विशेषज्ञों का कहना है, कि करीब 150 से 170 केसर के फूलों में से निकले पुंकेसर से एक ग्राम बनता है। केसर की खेती का एक फायदा यह भी है, कि इसके लिए बार-बार बीज रोपण की आवश्यकता नहीं पड़ती है। जानकारों का कहना है, कि 15 सालों तक इसमें फूल लगते रहते हैं।

केसर की खेती इन पहाड़ी क्षेत्रों में की जाती है

बतादें, कि केसर की खेती भारत के किसी भी राज्य में रहने वाला किसान कर सकता है। परंतु, इसकी खेती करने के लिए उपयुक्त मौसम एवं मिट्टी हर स्थान पर नहीं मिलती है। इस वजह से इसकी खेती कुछ ही हिस्सों में की जाती है। इसलिए पहाड़ी क्षेत्रों में प्रमुख तौर पर कश्मीर व हिमाचल प्रदेश में रहने वाले लोग इसका व्यापार कर के शानदार मुनाफा हांसिल कर सकते हैं। बतादें, कि बाजार में बेहद ही अधिक मांग में रहने के चलते इसकी कीमतें भी काफी अधिक रहती हैं।
Red Gold : केसर की खेती से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

Red Gold : केसर की खेती से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

कृषक भाई केसर की खेती कर काफी शानदार फायदा हांसिल कर सकते हैं। कृषक इसके लिए उन्हें कुछ विशेष बातों का ख्याल पड़ेगा। खानपान की सामग्रियों से लेकर पूजा पाठ और औषधियों में केसर का उपयोग किया जाता है। केसर की मांग बाजार में वर्ष भर बनी रहती है। ऐसी स्थिति में यदि आप परंपरागत फसलों का उत्पादन करके ऊब गए हैं, तो आप केसर की खेती कर सकते हैं। केसर की खेती में मुनाफा भी काफी ज्यादा होता है। बाजार में यह ऊंची कीमतों पर बिकती है। केसर को लाल सोना मतलब कि रेड गोल्ड भी कहा जाता है। बाजार में आज के दौरान 1 किलो केसर की कीमत 3 लाख रुपये तक हैं।

केसर की खेती के लिए मृदा एवं जलवायु 

कृषक भाइयों को केसर की खेती के दौरान कुछ महत्वपूर्ण बातों का विशेष ख्याल रखना चाहिए। केसर की खेती के लिए ठंडी एवं शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है। भारत में केसर की खेती प्रमुख रूप से जम्मू और कश्मीर में की जाती है। केसर की खेती के लिए बेहतरीन जल निकासी वाली रेतीली दोमट मृदा शानदार होती है। केसर के बीज काफी ज्यादा छोटे होते हैं। इस वजह से इन्हें उगाने के लिए विशेष तकनीक का उपयोग करना होता है। साथ ही, इसके शानदार रखरखाव की भी जरूरत पड़ती है। इसकी खेती के लिए समय-समय पर सिंचाई, खरपतवार नियंत्रण व कीट नियंत्रण की जरूरत होती है। केसर की फसल 7-8 महीने में पककर तैयार हो जाती है। फसल पकने के पश्चात केसर के फूलों को तोड़कर सुखाया जाता है। सूखे केसर को छीलकर बाजार में बेचा जाता है। 


ये भी पढ़ें: जानें केसर से भी महंगे वनीला पौधे से संबंधित जानकारी

केसर की खेती से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें

विशेषज्ञों के मुताबिक, केसर की खेती के लिए खेत की मृदा को बेहतर ढ़ंग से तैयार करें। मृदा की 2-3 बार जुताई करें फिर उसके बाद उसे एकसार कर दें। केसर के बीज की सितंबर-अक्टूबर माह के दौरान बिजाई की जाती है। बीज की 2-3 सेंटीमीटर गहराई में बिजाई करनी चाहिए। वहीं, इसकी फसल की नियमित तोर पर सिंचाई की आवश्यकता पड़ती है। विशेष तौर पर फूल आने के दौरान और फसल पकने के समय ज्यादा सिंचाई की आवश्यकता होती है। फसल को वक्त-वक्त पर खाद और उर्वरक की जरूरत पड़ती है। केसर की फसल में खरपतवार का होना नुकसानदायक होता है। इस वजह से इन पर नियंत्रण भी आवश्यक है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने नौकरी छोड़कर केसर का उत्पादन शुरू किया, वेतन से कई गुना ज्यादा कमा रहा मुनाफा

सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने नौकरी छोड़कर केसर का उत्पादन शुरू किया, वेतन से कई गुना ज्यादा कमा रहा मुनाफा

भारत में केसर की खेती कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में सर्वाधिक स्तर पर होती है। बाजार में इसकी कीमत काफी ज्यादा है। अब तक एक किलो केसर की मूल्य 3 लाख रुपये है। केसर का नाम कान में पड़ते ही दिमाग में सर्व प्रथम कश्मीर का नाम आता है। लोगों का यह मानना है, कि भारत के अंदर केवल कश्मीर जैसे सर्द मौसम वाले क्षेत्रों में ही केसर का उत्पादन किया जाता है। परंतु, यह बातें अब काफी पुरानी हो चुकी हैं। फिलहाल, आधुनिक तकनीक के माध्यम से लोग गर्म राज्यों में भी केसर का उत्पादन कर रहे हैं। इससे किसान भाइयों की अच्छी-खासी आमदनी भी हो रही है। आज हम एक ऐसे ही किसान के विषय में चर्चा करने जा रहे हैं, जिन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर केसर की खेती चालू की है। किसान ने इसमें काफी सफलता भी अर्जित की है। 

शैलेश मोदक कहाँ के रहने वाले हैं

द इकोनॉमिक टाइम्स हिंदी की खबरों के अनुसार, पुणे जनपद निवासी शैलेश मोदक एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। उन्होंने 13 वर्ष तक विभिन्न कंपनियों में अच्छे-खासे वेतन पर नौकरी की है। अचानक से उनके मन में केसर की खेती करने का विचार आया। विचार आने के बाद शैलेश मोदक ने नौकरी छोड़कर कंटेनर के अंदर केसर की उत्पादन आरंभ कर दिया। इससे उनको लाखों रुपये की आमदनी भी हो रही है। शैलेश ने कहा है, कि आहिस्ते-आहिस्ते वह कंटेनरों की संख्या में बढ़ोत्तरी करेंगे।

ये भी पढ़े: वैज्ञानिकों के निरंतर प्रयास से इस राज्य के गाँव में हुआ केसर का उत्पादन

शैलेश मोदक किस तरह से केसर की खेती करते हैं

शैलेश मोदक शिपिंग कंटेनर के भीतर केसर का उत्पादन करने के लिए तापमान को नियंत्रण में रखते हैं। शैलेश मोदक का कहना है, कि वह कंटेनर के अंदर हाइड्रोपोनिक तकनीक से बाकी फसलों का भी उत्पादन कर रहे हैं। विशेष कर वह हाइड्रोपोनिक तकनीक से महंगी सब्जियों का उत्पादन कर रहे हैं, जिसकी विदेशों में काफी ज्यादा मांग है। वर्तमान में शैलेश मोदक अन्य किसानों को भी केसर का उत्पादन करने के लिए बारीकियों को सीखा रहे हैं। 

भारत में केसर की अधिक मांग को देखते हुए शैलेश केसर की खेती का रकबा बढ़ाएंगे

बतादें, कि भारत में केसर का सर्वाधिक उत्पादन कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में किया जाता है। बाजार में इसकी कीमत काफी ज्यादा होती है। अभी एक किलो केसर का मूल्य 3 लाख रुपये है। शैलेश अभी कंटेनर के भीतर 160 स्क्वायर फीट में केसर का उत्पादन कर रहे हैं। इससे वह करीब 5 से 6 किलो तक केसर की पैदावार अर्जित कर रहे हैं। शैलेश मोदक का कहना है, कि वह 6 साल से केसर की खेती करते आ रहे हैं। इससे पूर्व वह मधुमक्खी पालन किया करते थे। भारत में 4 टन ही केसर की पैदावार होती है, जबकि मांग लगभग 100 टन की है। ऐसे में मांग की आपूर्ति करने के लिए विदेशों से केसर का आयात किया जाता है। विशेष कर ईरान, अफगानिस्तान और नीदरलैंड से सर्वाधिक केसर का आयात किया जाता है। शैलेश मोदक की योजना है, कि आगामी वर्षों में वह 320 वर्ग फीट में केसर का उत्पादन किया करेंगे।

रिटायर्ड इंजीनियर ने नोएडा में उगाया कश्मीरी केसर, हुआ बंपर मुनाफा

रिटायर्ड इंजीनियर ने नोएडा में उगाया कश्मीरी केसर, हुआ बंपर मुनाफा

भारत में केसर का मसाले और दवाई के रूप में प्रयोग किया जाता है। चटक रंग के कारण इसका प्रयोग अनेक भारतीय व्यंजनों में भी किया जाता है। जिसके कारण पिछले कुछ सालों में देखा गया है कि इसकी मांग घरेलू बाजार में तेजी से बढ़ी है। केसर एक ऐसी फसल है जिसे उगाने के लिए खास तरह की जलवायु की जरूरत होती है। ऐसे में इसका उत्पादन मुख्य तौर पर कश्मीर में किया जाता है। कश्मीर के अलावा अन्य प्रदेशों की जलवायु को इसके उत्पादन के लिए सही नहीं माना जाता है। इसलिए अन्य प्रदेशों के किसान अपने यहां इसके उत्पादन के लिए प्रयास नहीं करते हैं। लेकिन इसके विपरीत नोएडा में रहने वाले इंजीनियर रमेश गेरा ने उत्तर प्रदेश की भूमि पर केसर की खेती करके कमाल कर दिया है। केसर के बारे में कहा जाता है कि इसकी खेती सिर्फ ठंडी जलवायु वाली जगह में ही की जाती है। गर्म और उष्ण जलवायु में इसकी खेती संभव नहीं है। इसकी खेती के लिए विशेष प्रकार की मिट्टी की जरूरत होती है। ऐसे में इंजीनियर रमेश गेरा के लिए नोएडा में केसर की खेती करना बेहद चुनौतीपूर्ण था। रमेश गेरा ने बताया कि इसके लिए उन्होंने कश्मीर जैसी जलवायु को विकसित किया। साथ ही कश्मीर से मिट्टी मंगवाई और घर में खेती शुरू की। जिसमें उन्हें सफलता प्राप्त हुई। फिलहाल रमेश गेरा नोएडा में केसर की खेती करके हर साल लाखों रुपये कमा रहे हैं।

ये भी पढ़ें:
सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने नौकरी छोड़कर केसर का उत्पादन शुरू किया, वेतन से कई गुना ज्यादा कमा रहा मुनाफा

 

रमेश गेरा ने बताया कि केसर की खेती उन्होंने एडवांस फार्मिंग की मदद से शुरू की है। वह दक्षिण कोरिया से एडवांस फार्मिंग की तकनीक सीखकर भारत वापस लौटे हैं। साल 2017 के बाद वो रिटायर्ड हो गए थे, जिसके बाद उन्होंने केसर की खेती करना शुरू कर दी है। शुरुआती दो सालों में उन्हें इस खेती में सफलता हाथ नहीं लगी थी। जिसके बाद वो कश्मीर पहुंचे और उन्होंने अपने स्तर पर रिसर्च की और यह जानने की कोशिश की कि केसर की खेती कैसे करते हैं। उसके बाद वापस लौटकर उन्होंने नोएडा में केसर उगाना शुरू किया। इस बार वो उत्तर प्रदेश की जमीन पर केसर उगाने में कामयाब हुए और वर्तमान में वो केसर से अच्छी खासी उपज प्राप्त कर रहे हैं। रमेश गेरा ने अपने बारे में बताया है कि वो एक किसान परिवार से आते हैं जो हरियाणा के हिसार में रहता है। उनके मन में हमेशा से किसानों के लिए कुछ नया करने की इच्छा थी, इसलिए वो समय-समय पर खेती बाड़ी के नए प्रयोग करते रहते थे। वह वर्तमान में किसानों को एडवांस फार्मिंग की तकनीक सिखा रहे हैं। साथ ही हाइड्रोफोनिक, ऑर्गेनिक और सॉइल लेस मल्टीलेवल खेती कैसे करते हैं इसके लिए भी किसानों को प्रशिक्षित कर रहे हैं। बड़ी संख्या में आस पास के किसान उन्हें खेती किसानी का प्रशिक्षण लेने पहुंच रहे हैं। इन दिनों रमेश गेरा केसर के अलावा विभिन्न प्रकार की सब्जियों की खेती भी कर रहे हैं, जिनसे उन्हें भरपूर मुनाफा प्राप्त हो रहा है। जेल के कैदियों की सहायता करने के लिए वो इन दिनों उन्हें भी खेती किसानी की उन्नत तकनीकें सिखा रहे हैं।