Ad

धनिया

Dhania ki katai (धनिया की कटाई)

Dhania ki katai (धनिया की कटाई)

जैसा कि हम सब जानते हैं कि भारत एक उपजाऊ भूमि है यहां हर तरह की फसलें उगाई जाती हैं। उसमें से एक धनिया भी है धनिया जिसको इंग्लिश भाषा में coriander भी कहते हैं। धनिया के एक नहीं कई सारे फायदे हैं फायदे के साथ ये खाने को जायकेदार  भी बनाता है। धनिया में पाए जाने वाले तत्व जैसे डाइटरी फाइबर ,प्रोटीन ,विटामिन सी का मुख्य स्त्रोत होता है। साथ ही साथ इसमें विटामिन बी3 कैलशियम ,मैग्निशियम, मैग्नीज, आयरन आदि भी मौजूद होते हैं। आइये जानते है धनिये की कटाई के बारे में !

धनिया की कटाई (Coriander Harvesting) in Hindi:

धनिया की कटाई की प्रक्रिया कुछ इस प्रकार है जिसके द्वारा धनिया की कटाई की जाती है:
  • जब धनिया की फसल पूरी तरह से पक जाती है तो इसके सूखने के बाद इसकी खूब अच्छी तरह से तोड़ने( तुड़ाई )की प्रक्रिया को शुरू कर दिया जाता है।
  • तुड़ाई के बाद इसे खूब अच्छे साफ पानी से धोया जाता है। 30 से 40 दिन पूर्व बीत जाने के बाद।
  • धनिया की कटाई से पहले धनिया के बीज को स्टोर करना होता है। जब धनिया का पौधा भूरा रंग का हो जाए। तो ही उसे काट कर एक कागज की थैली में रख दिया जाता है।
  • थैली को आपको कहीं दीवार पर लटका कर रखना होता है। उसके पौधे को सूखने से बचाने के लिए।जब तक सारे बीच थैली में ना गिर जाए।

कुछ इस प्रक्रिया द्वारा किसान धनिया की कटाई करते है।

धनिया की गिनती मसाला वर्गीकरण फसलों में होती है (Coriander is Counted in Spice Classification Crops) in Hindi:

dhaniya farming ये भी पढ़े: सुगंधित धनियां लाए खुशहाली
  • धनिया की मांग पूरे साल मार्केट में बनी रहती है।
  • मार्केट में धनिया की लगातार मांग देते हुए। धनिया की बीज को अच्छी तरह से कंटेनर में स्टोर कर भी रखा जाता है।
  • पत्तियों को सुखाकर इसे स्टोर कर रखा जाता है।
  • धनिया को सुखाने के लिए कृषि इसे ऊंची जगह पर लटका कर रख देते है जिसके बाद धनिया अच्छे से सूख जाने के बाद कंटेनर में स्टोर हो सके।
  • धनिया की कई किस्में और इसकी बहुत सारी बीच काफी मात्रा में उपयुक्त हैं।

धनिया की फसल कितने दिन में तैयार होती है ( In How Many Days Coriander Crop is Ready) in Hindi:

dhaniya ki fasal ये भी पढ़े: सीजनल सब्जियों के उत्पादन से करें कमाई
  • धनिया की फसल उगाने के लिए इसकी सिंचाई करनी होती है। जिसमें लगभग30 से 35 दिन का समय लगता है।
  • धनिया फसल की दूसरी सिंचाई का समय लगभग 50 से 60 दिन का होता है। साख फूटने के बाद यह सिंचाई की जाती है।
  • सिंचाई के बाद धनिया के फूल आना शुरू हो जाते हैं तथा बीच बनने की अवस्था शुरू हो जाती है
  • यह सभी सिंचाई करने के बाद धनिया की एक अच्छी फसल तैयार हो जाती है। 90 से 100 दिन के उपरांत आपको धनिया की अच्छी फसल की प्राप्ति होती है।

धनिया की खेती का समय ( Coriander Cultivation Time) in Hindi:

dhaniya ki kheti
  • धनिया की खेती का सही समय रबी का मौसम है।यह रबी के मौसम में बोई जाने वाली फसल है।
  • धनिया फसल की जोताई का समय 15 अक्टूबर से 15 नवंबर के बीच का होता है जब इस फसल को बोया जाता है।
  • धनिया की अच्छी हरी पत्तियों को प्राप्त करने के लिए आपको दिसंबर तक का इंतजार करना होता है।
  • धनिया को उगाने के लिए डाली जाने वाली खाद्य कृषि विशेषज्ञों के अनुसार चुनी जाती है।
  • विशेषज्ञों द्वारा खेत को तैयार करने के लिए गोबर की खाद मिट्टी में सही तरह से मिलाना होता है।
  • जिसकी मात्रा 100 से 150 कुंटल होनी चाहिए। इसकी खेती के लिए नत्रजन 80 किलोग्राम होना आवश्यक है।
  • इसमें करीब 50 किलो पोटाश तथा फास्फोरस की आवश्यकता पड़ती है।
ये भी पढ़े: मेथी की खेती की सम्पूर्ण जानकारी

धनिया की फसल में सल्फर कब डालते हैं( When to Add Sulfur in Coriander Crop) in Hindi:

Coriander Crop धनिया की फसल के लिए सल्फर बहुत ही उपयोगी होते हैं। इसको किस प्रकार इस्तेमाल करना है? इसकी कितनी मात्रा में आपको सिंचाई करनी होती है? यह सभी सवालों के जवाब कुछ निम्न प्रकार है:
  • एक 1000 लीटर पानी में आपको सिर्फ 1 लीटर सल्फर मिलाकर शाम के समय फसलों पर छिड़काव करना होता है।
  • शाम के समय आपको हल्की सिंचाई करने के दौरान मेंढ के हर तरफ धुआं करना होता है।
  • यदि आपको पाला पड़ने की आशंका दिखाई दे तो आप सबसे पहले डाई मिथाइल सल्फो ऑक्साईड को 75 ग्राम की मात्रा में 1000 लीटर पानी में अच्छे से मिलाकर पूरी तरफ छिड़काव कर दें।

धनिया के फायदे (Benefits of Coriander) in Hindi

dhaniya ke fayade  धनिया एक नहीं बल्कि कई तरह से आपके लिए उपयोगी साबित है।धनिया की उपयोगिता कुछ इस प्रकार है :
  • डायबिटीज से आजकल हर व्यक्ति परेशान है। डायबिटीज से होने वाले नुकसान हमारे शरीर को कमजोर बना रहे हैं। धनिया आपके डायबिटीज को कंट्रोल करता है।
  • धनिया रामबाण है, जो आपके ब्लड शुगर को लेवल में बना कर रखता है।
  • किडनी के रोग को रोग मुक्त करने के लिए भी यह बहुत ही असरदार साबित हुआ है।
  • यदि आप बार-बार अपनी पाचन क्रिया से परेशान हैं। तो आप रोजाना धनिया का सेवन करें यह आपकी पाचन शक्ति को मजबूत बनाता है।
  • कोलेस्ट्रोल को कंट्रोल में रखता है।
  • आंखों की सुरक्षा तथा आंखों की रोशनी को बढ़ाने का भी कार्य करता है।
  • फसल की कटाई की शुरुआत उसका कद 20 से 25 होने के बाद करनी चाहिए। हरी पत्तियों को काटकर अलग कर दें।
  • आपको यह कटाई तीन से चार बार करनी होती है। पूरी कटाई हो जाने के बाद आपको 6 से 7 दिनों तक धूप में फसल को सूखने देना है।
  • धनिया की पत्तियों को चबाने से मुंह सुगंधित रहता है तथा इसको चबाने से हमारे दांतों और मसूड़ों को कई तरह के फायदे पहुंचते हैं।
  • धनिया में मौजूद मिनरल इसको और भी ज्यादा उपयोगी बनाता है।धनिया अपने बेमिसाल फायदे के लिए जानी जाती हैं।
ये भी पढ़े: पालक की खेती की सम्पूर्ण जानकारी

निष्कर्ष (Conclusion)

Dhaniya crop Conclusion हमारी इस पोस्ट द्वारा आपने धनिया की कटाई और धनिया से जुड़ी सभी आवश्यक बातों को जान लिया होगा, तो हम आपसे यह उम्मीद करते हैं।कि आप हमारी इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और आगे आपके जो भी सवाल हो। जानने के लिए संपर्क करें, हम उम्मीद करते हैं यह पोस्ट आपको जरूर पसंद आई होगी।
धनिया का उपयोग एवं महत्व [Dhaniya (Coriander) uses & importance in hindi]

धनिया का उपयोग एवं महत्व [Dhaniya (Coriander) uses & importance in hindi]

भारत में धनिया रसोई घर में एक मुख्य भूमिका निभाती है, क्योंकि धनिया का उपयोग विभिन्न विभिन्न प्रकार से किया जाता है। धनिया का उपयोग सिर्फ खाने में ही नहीं, बल्कि चाट, सलाद ,सब्जियों को ऊपर से सजाने तथा विभिन्न विभिन्न तरह से धनिया का इस्तेमाल किया जाता है। इसीलिए भारतीय रसोइयों में धनिया का अपना एक मुख्य स्थान है। जो कोई और नहीं ले सकता हैं। यह अपनी खुशबू के साथ विभिन्न प्रकार के गुणों को भी अपने अंदर समेटे हुए रहती है। जानिए धनिया का उपयोग और महत्व ।

धनिया का उपयोग एवं महत्व (Use and importance of coriander)

भारत देश मसालों की भूमि के लिए प्रसिद्ध है और यह प्राचीन काल से सुनिश्चित है।धनिया की पत्तियां और बीज खाने को खुशबूदार और जैकेदार बनाते हैं। धनिया की पत्तियां खाने में खुशबू और इनके बीज में विभिन्न प्रकार के औषधि गुण होते हैं। जिसको खाने से हमारे शरीर को लाभ पहुंचता है।धनिया के औषधि गुणों का उपयोग कुलिनरी,डायरेटिक, कार्मिनेटीव इत्यादि में किया जाता है। धनिया उत्पादक करने वाले मुख्य क्षेत्र कुछ इस प्रकार है जैसे: राजगढ़ ,विदिशा ,शाजापुर छिंदवाड़ा,मंदसौर, म.प्र के गुना आदि। प्राप्त की गई जानकारियों के अनुसार मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा धनिया की खेती की जाती है। मध्यप्रदेश में धनिया की खेती करीबन 1,16,607 की दर पर होती है। इन खेती के आधार पर 1,84,702 टन धनिया की उत्पादकता की प्राप्ति की जाती है। ये भी पढ़ें: Dhania ki katai (धनिया की कटाई)

धनिया की फसल के लिए उपयुक्त जलवायु:

धनिया की फसल के लिए सबसे अच्छा मौसम ठंडी का होता है। ठंडी और शुष्क मौसम धनिया की उत्पादकता को बढ़ाता है। धनिया की फसल के लिए सबसे अच्छा तापमान 25 डिग्री से 26 डिग्री सेल्सियस का माना जाता है।किसानों के अनुसार धनिया की फसल शीतोष्ण जलवायु की फसल होती है। धनिया की फसल फूल और दाना का रूप प्राप्त करने के लिए पाला रहित मौसमो पर निर्भर होती हैं। ज्यादा पाला धनिया की फसल को खराब कर देता है।

धनिया की फसल के लिए सिंचाई

धनिया की फसल के लिए सिंचाई धनिया की फसल के लिए सबसे उपयोगी दोमट मिट्टी होती है। खेतों में जल निकास की अच्छी व्यवस्था करना बहुत ही जरूरी होता है।क्षारीय और लवणी भूमि को धनिया की फसल सहन नहीं कर पाती, धनिया की फसल दोमट मिट्टी और मटियार दोमट मे बहुत अच्छी तरह उत्पादन करती हैं।धनिया की फसल के लिए मिट्टी का पीएच मान  लगभग 6 पॉइंट 5 से लेकर 7 पॉइंट 5 तक का होना जरूरी होता है। धनिया की फसल के लिए सिंचाई पर ध्यान देना जरूरी है। यदि पानी की व्यवस्था ना हो तो आप भूमि में पलेवा देकर भूमि को उचित रूप से तैयार कर सकते हैं। इस प्रकार जुताई करने से भूमि में मिट्टी के ढेले नहीं बनते हैं। ये भी पढ़ें: गर्मियों के मौसम में हरी सब्जियों के पौधों की देखभाल कैसे करें (Plant Care in Summer)

धनिया बोने का उचित समय

धनिया की बुवाई का उचित समय रबी का मौसम होता हैं। अक्टूबर से लेकर नवंबर तक  धनिया बोने का सबसे उचित समय होता है। धनिया के पत्तों की अच्छी प्राप्ति के लिए फसल बोने का सही समय अक्टूबर से लेकर दिसंबर तक का बहुत ही उपयुक्त माना जाता है।पाले के खतरे से बचने के लिए धनिया को नवंबर के दूसरे सप्ताह में बोना आवश्यक होता है।

धनिया की फसल में खाद और उर्वरक

खेत को तैयार करते समय किसान भाई  प्रति हेक्टेयर क्षेत्र में 100 से लेकर 150 कुंटल सड़ी हुई गोबर की खाद का इस्तेमाल करते हैं। तथा 80 किलोग्राम नत्रजन और 50 किलोग्राम फास्फोरस तथा 50 किलोग्राम पोटाश की मात्रा का इस्तेमाल करते हैं। इन खादो को भली प्रकार से मिट्टी में मिलाया जाता है।

धनिया में सल्फर कब डालते हैं?

फसलों में सल्फर डालने का सही समय शाम का होता है। सल्फर को कुछ इस प्रकार से खेतों में डाला जाता है जैसे ;1 लीटर सल्फर को 1000 लीटर पानी में अच्छी तरह से मिलाकर फसलों पर छिड़काव करें। छिड़काव करते समय इस बात का ध्यान रखें। कि कोई जगह बचे नहीं खेतों में पूर्ण रूप से छिड़काव हो जाए। ये भी पढ़ें: सीजनल सब्जियों के उत्पादन से करें कमाई शाम का वक्त हो जाने पर खेतों में अच्छी तरह से हल्की सिंचाई करते समय मेढ़ के हर तरफ धुआं कर दें।

धनिया पीली क्यों पड़ जाती है?

धनिया में पीलापन धनिया की फसल की देरी से कटाई करने की वजह से धनिया में पीलापन आ जाता है। जो किसान भाइयों के हित में अच्छा साबित नहीं होता। इसीलिए धनिया की फसल की कटाई इसके सही समय पर करनी चाहिए। जब धनिया का दाना दबाने पर धनिया मे हल्का कठोर पन और पत्तिया पीली पड़ने लगे, धनिया डोड़ी दिखने में चमकीले भोरे तथा हरा रंग ,पीला होने पर और दानों में लगभग 18% नमी मौजूद रहे तभी कटाई करनी चाहिए। कटाई में की गई जरा सी भी देरी धनिया के रंगों को पूरी तरह से खराब कर देती है।

धनिया के लाभ

धनिया खाने से हमें विभिन्न विभिन्न प्रकार के लाभ होते हैं। क्योंकि धनिया खाने से विभिन्न प्रकार के रोग नष्ट हो जाते हैं तथा हमें उन रोगो से छुटकारा भी मिल जाता है। जैसे : धनिया खाने से हमारी पाचन शक्ति अच्छी रहती है, हमारे शरीर का कोलेस्ट्रॉल लेवल मेंटेन रहता है तथा डायबिटीज, किडनी आदि रोगों में भी यह काफी सहायक होती है। धनिया में मौजूद विभिन्न प्रकार के गुण जैसे फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, वसा प्रोटीन, मिनरल आदि मौजूद होते हैं। यह सभी आवश्यक तत्व धनिया को और भी ज्यादा महत्वपूर्ण बनाते हैं। दोस्तों हम यह उम्मीद करते हैं, कि हमारा यह  धनिया का आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। हमारे इस आर्टिकल में धनिया से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारियां मौजूद है। कृपया हमारे इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करें।
धनिया की खेती से होने वाले फायदे

धनिया की खेती से होने वाले फायदे

दोस्तों आज हम बात करेंगे धनिया की खेती की, धनिया खेती के लिए बहुत ही उपयोगी फसल मानी जाती हैं। क्योंकि बिना धनिया के किसी भी प्रकार का खाना अधूरा रह जाता है। धनिया की पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी इस पोस्ट के अंत तक जरूर बनाए हैं।

धनिया की खेती:

धनिया के इस्तेमाल से भोजन स्वादिष्ट बनता है तथा भोजन में खुशबू बनी रहती है। धनिया की पत्ती और मसालों में खड़ी धनिया दोनों खानों में अपना अलग ही स्वाद लगाते हैं। धनिया ना सिर्फ अभी बल्कि प्राचीन काल से ही मसालों में अपनी अलग भूमिका बनाए हुए है। भारत देश मसाले की भूमि मानी जाती है ऐसे में धनिया एक मुख्य और महत्वपूर्ण मसालों में से एक है।


ये भी पढ़ें:
धनिया का उपयोग एवं महत्व [Dhaniya (Coriander) uses & importance in hindi]
किसानों के अनुसार धनिया के बीजों में विभिन्न विभिन्न प्रकार के औषधीय गुण मौजूद होते हैं। इन औषधीय गुणों का उपयोग कुलिनरी , कार्मिनेटीव और डायरेटिक आदि के  रूप में किया जाता है।

धनिया की खेती करने वाले क्षेत्र:

किसानों को धनिया की खेती करने से अधिक लाभ पहुंचता है, क्योंकि यह कम लागत में भारी मुनाफा देने वाली फसलों में से एक हैं। कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहां धनिया की खेती भारी मात्रा में की जाती है। जैसे मध्यप्रदेश में करीबन धनिया की खेती 1,16,607 के आस पास होती हैं। 1,84,702 टन धनिया का भारी उत्पादन मिलता है। कृषि विशेषज्ञ के अनुसार धनिया के उत्पादन वाले और भी क्षेत्र हैं जहां पर धनिया की भारी उत्पादकता प्राप्त की जाती है। जैसे गुना, शाजापुर ,मंदसौर, छिंदवाड़ा, विदिशा आदि जगहों पर धनिया की फसल उगाई जाती है।


ये भी पढ़ें:
Dhania ki katai (धनिया की कटाई)

धनिया की खेती करने के लिए उपयुक्त जलवायु का चयन :

धनिया की खेती के लिए सबसे उपयुक्त जलवायु शुष्क और ठंडे मौसम की जलवायु मानी जाती है। इन मौसमों में धनिया की खेती का भारी  उत्पादन होता है। धनिया के बीजों को अंकुरित या फूटने के लिए करीब 26 से लेकर 27 डिग्री सेल्सियस तापमान की आवश्यकता होती है। धनिया के बीजों के अंकुरित के लिए या तापमान सबसे उचित माना जाता है। किसानों के अनुसार धनिया शीतोष्ण जलवायु फसल है। इसीलिए इन के फूल और दानों को पाले वाले मौसम की जरूरत पड़ती है। कभी कभी धनिया की फसल के लिए पाले का मौसम नुकसानदायक भी होता है।


ये भी पढ़ें:
भूमि विकास, जुताई और बीज बोने की तैयारी के लिए उपकरण

धनिया की फसल के लिए भूमि को तैयार करना :

धनिया की फसल के लिए अच्छी दोमट वाली भूमि सबसे उपयोगी मानी जाती है। सिंचाई की व्यवस्था को बनाए रखने के लिए अच्छी जल निकास वाली भूमि सबसे उपयोगी होती है। जो फसलें असिंचित होती हैं उनके लिए काली भारी भूमि ठीक समझी जाती है। इसीलिए किसानों के अनुसार धनिया की खेती के लिए सबसे उपयुक्त मिट्टी दोमट मिट्टी या फिर मटियार दोमट सबसे उपयोगी होती है। मिट्टियों का पीएच मान लगभग 6 पॉइंट 5 से लेकर 7 पॉइंट 5 का सबसे उपयोगी होता है। धनिया की फसल बुवाई करने से पहले खेतों को भली प्रकार से जुताई की आवश्यकता होती है। अच्छी गहराई प्राप्त हो जाने के बाद ही बीज रोपण का कार्य शुरू करें। धनिया की फसल के लिए भूमि को करीब दो से तीन बार अड़ी खड़ी जुताई की आवश्यकता होती है। जुताई करने के बाद खेतों में भली प्रकार से पाटा लगाना चाहिए।

धनिया की फसल बोने का सही समय चुने:

धनिया की फसल बोने का सही समय किसान अक्टूबर और नवंबर के बीच का बताते हैं। करीब 15 से 20 अक्टूबर के बीच धनिया की बुवाई का सबसे उपयुक्त समय माना जाता है। धनिया की फसल रबी मौसम में बोई जाने वाली फसल है। धनिया की फसल की बुवाई से किसानों को बहुत लाभ पहुंचता है।अक्टूबर में धनिया के दाने आना शुरू हो जाते हैं। तथा नवम्बर में हरे पत्ते फसल बनकर लहराने लगते हैं। पाले से फसल की खास देखभाल करने की आवश्यकता होती है।


ये भी पढ़ें:
बारिश में लगाएंगे यह सब्जियां तो होगा तगड़ा उत्पादन, मिलेगा दमदार मुनाफा

धनिया की फसल को सुरक्षित रखने के लिए बीज उपचार:

धनिया की फसल को सुरक्षित रखने के लिए  रोगों से बचाव के लिए कार्बेंन्डाजिम और थाइरम का प्रयोग करना चाहिए। इनके इस्तेमाल से भूमि और बीजों दोनों का ही रोगों से बचाव होता है। जिन रोगों से फसलें खराब होने का भय रहता है, जनित रोगों से बचाव के लिए 500 पीपीएम तथा में बीजों को स्टे्रप्टोमाईसिन द्वारा उपचार करना चाहिए।

धनिया की फसल में उपयुक्त सिंचाई:

धनिया की फसल की पहली सिंचाई बीज रोपण करते समय करनी चाहिए। उसके बाद दो-तीन दिन के भीतर तीन से चार बार सिंचाई की आवश्यकता होती है। सिंचाई करते वक्त आप को जल निकास की व्यवस्था को सही ढंग से बनाए रखना होगा, ताकि किसी भी प्रकार का रोग या जल एकत्रित होकर फसल खराब ना होने पाए। किसानों के अनुसार धनिया की फसल उनकी आय के साधन को मजबूत बनाते हैं। धनिया की पत्तियां और धनिया के बीच दोनों ही उपयोगी होते हैं। दोस्तों हम उम्मीद करते हैं। कि आपको हमारा यह आर्टिकल धनिया की खेती से होने वाले फायदे पसंद आया होगा। हमारे इस आर्टिकल  में सभी प्रकार की आवश्यक जानकारियां मौजूद है जो आपके बहुत काम आ सकती है। यदि आप हमारी दी गई सभी प्रकार की जानकारियों से संतुष्ट हैं। तो हमारे इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ तथा अन्य सोशल प्लेटफॉर्म पर शेयर करें। धन्यवाद।
धनिया उत्पादक किसान ने 1 दिन में 2 लाख की कमाई की, जानें कैसे

धनिया उत्पादक किसान ने 1 दिन में 2 लाख की कमाई की, जानें कैसे

संजय बिरादर नाम के एक किसान ने धनिया बेचकर लाखों रुपये की आमदनी की है। संजय बिरादर ने एक एकड़ में धनिया की खेती कर रखी है। भारत में महंगाई सातवें आसमान पर पहुंच चुकी है। विशेष कर हरी सब्जियां काफी महंगी हो गई हैं। तोरई, परवल, शिमला मिर्च, हरी मिर्च, धनिया, भिंडी और लौकी समेत समस्त प्रकार के साग-सब्जियों की कीमतें कई गुना ज्यादा बढ़ गई हैं। परंतु, टमाटर का भाव सबसे ज्यादा लोगों को रुला रहा है। एक माह पूर्व तक 20 से 30 रुपये किलो मिलने वाला टमाटर अब 250 से 350 रुपये किलो तक पहुँच गया है। ऐसे में टमाटर बेचकर टमाटर उत्पादक किसान करोड़पति बन गए हैं।

धनिया उत्पादक किसान कर रहे मोटी आमदनी

खास कर महाराष्ट्र और हिमाचल प्रदेश में
टमाटर बेचकर करोड़ों रुपये की आय करने वाले किसानों की तादात सबसे ज्यादा है। इन किसानों का कहना है, कि उन्होंने कभी स्वप्न में भी नहीं सोचा था, कि वे अपनी जिन्दी में टमाटर बेचकर करोड़पति हो पाऐंगे। क्योंकि फरवरी एवं मार्च महीने के दौरान टमाटर थोक बाजार में काफी सस्ता हो गया था। किसान 2 से 3 रुपये किलो टमाटर बेचने के लिए विवश हो गए थे। परंतु, फिलहाल खबर है, कि केवल टमाटर ही नहीं धनिया की खेती करने वाले किसानों का भी अच्छा समय आ गया है। धनिया महंगा होने की वजह से धनिया उत्पादक किसान टमाटर उत्पादकों की भाँति ही मोटी कमाई कर रहे हैं। ये भी पढ़े: इन राज्यों में 200 रुपए किलो के टमाटर को राज्य सरकार की मदद से 60 रुपए किलो में बेचा जा रहा है

संजय बिरादर को हुई 2 लाख रुपये की आमदनी

यह ताजा मामला महाराष्ट्र के लातूर जनपद का है। यहां के संजय बिरादर नाम के एक किसान ने धनिया बेचकर लाखों रुपये की आमदनी अर्जित की है। संजय बिरादर ने एक एकड़ भूमि में धनिया की खेती कर रखी है। इस महंगाई में वह धनिया बेचकर 2 लाख रुपये की आमदनी कर चुके हैं। उनका कहना है, कि रिटेल मार्केट में अभी धनिया 200 से 300 रुपये प्रतिकिलो है। ऐसी स्थिति में व्यापारी किसानों के खेत से ही 100 रुपये किलो की दर से धनिया की हरी- हरी पत्तियां खरीद रहे हैं। यही वजह है, कि संजय ने एक एकड़ में लगी धनिये की संपूर्ण फसल को एक व्यापारी के हाथों बेच डाला, जिससे उन्हें 2 लाख रुपये की आमदनी हुई।

धनिये की फसल 30 से 40 दिन के समयांतराल में पककर तैयार हो जाती है

संजय बिरादर ने बताया है, कि एक एकड़ में धनिया की खेती करने पर 50 हजार रुपये का खर्चा आया था। इस प्रकार संजय ने लागत काटकर डेढ़ लाख रुपये का शुद्ध मुनाफा कमाया है। खास बात यह है, कि धनिया की फसल 30 से 40 दिन के अंदर तैयार हो जाती है। इस वजह से संजय को देखकर फिलहाल क्षेत्र में बहुत सारे किसानों ने धनिया की खेती करने की योजना बनाली है। साथ ही, बहुत से किसानों ने तो धनिया की बिजाई भी चालू कर दी है। हालांकि, अभी भी बाजार भाव की तुलना में किसानों को धनिया की आधी कीमत ही मिल पा रही है।
किसान अपनी छत पर इन महंगी सब्जियों को इस माध्यम से उगाऐं

किसान अपनी छत पर इन महंगी सब्जियों को इस माध्यम से उगाऐं

शिमला मिर्च की खेती भी बिल्कुल उसी तरह कर सकते हैं, जैसे बैंगन की करते हैं। हालांकि, इसमें धूप का और पानी का खास ध्यान रखना पड़ता है। प्रयास करें कि शिमला मिर्च के पौधों पर प्रत्यक्ष तौर पर धूप ना पड़े। बाजार में कुछ दिन पूर्व तक टमाटर की कीमत 350 रुपए प्रतिकिलो थी। दरअसल, सरकार के हस्तक्षेप के उपरांत इनके भाव अब 70 से 80 रुपए किलो तक आ गए हैं। परंतु, क्या आपको जानकारी है, कि बाजार के अंदर विभिन्न ऐसी सब्जियां हैं, जो आज भी 150 के पार चल रही हैं। इन सब्जियों में शिमला मिर्च, बैगन और धनिया शम्मिलित हैं। आइए आपको जानकारी दे दें कि कैसे आप इन सब्जियों को अपनी छत पर सहजता से उगा सकते हैं।

गमले के अंदर बैंगन की खेती

बैंगन को छत पर उगाना सबसे सुगम होता है। बाजार में इसके पौधे मिलते हैं, जिन्हें लाकर आप किसी भी गमले में इसको उगा सकते हैं। इसकी संपूर्ण प्रक्रिया के विषय में बात की जाए तो सबसे पहले आपको एक गमला लेना पड़ेगा। जो थोड़ा बड़ा हो उसके बाद उसमें मिट्टी और जैविक खाद मिला लें। जब इस प्रकार से गमला तैयार हो जाए तो नर्सरी से लाए हुए बैंगन के पौधों की इनमें रोपाई करें। एक गमले में आपको एक से ज्यादा पौधा नहीं रोपना चाहिए। ऐसे करके आप छत पर पांच से सात गमलों में बैंगन का उत्पादन कर सकते हैं। ये पौधे दो महीनों के अंतर्गत बैंगन देने लगेंगे। ये भी पढ़े: सफेद बैंगन की खेती से किसानों को अच्छा-खासा मुनाफा मिलता है

गमले के अंदर शिमला मिर्च की खेती

शिमला मिर्च की खेती भी बिल्कुल वैसे ही की जा सकती है, जैसे कि बैंगन की करते हैं। हालांकि, इसमें धूप का और पानी का विशेष ख्याल रखना पड़ता है। प्रयास करें कि शिमला मिर्च के पौधों पर प्रत्यक्ष तौर पर धूप ना पड़े। यदि ऐसा हुआ तो पौधा सूख सकता है। इसी प्रकार से आप हरी मिर्च की भी खेती सहजता से कर सकते हैं। यदि आपका छत बड़ा है, तो आप उस पर बहुत सारे गमले रख के एक छोटा सा वेजिटेबल गार्डेन तैयार कर सकते हैं, जिसमें आप प्रतिदिन बगैर रसायन वाली ताजी-ताजी सब्जियां उगा सकते हैं।

गमले के अंदर धनिया की खेती

संभवतः धनिया की खेती सबसे आसान ढ़ंग से की जाती है। हालांकि, इसके लिए आपको गमला नहीं बल्कि कोई चौड़ी वस्तु जैसे कोई बड़ा सा गहरा ट्रे लेना पड़ेगा। इस ट्रे में पहले आप जैविक खाद और मृदा डाल दें, उसके उपरांत इसमें बाजार से लाए धनिया के बीज छींट दें। फिर उसमें पानी का मध्यम छिड़काव कर दें। दस से बीस दिनों के समयांतराल पर धनिया के पौधे तैयार हो जाएंगे, एक महीने के पश्चात आप इनकी पत्तियों का इस्तेमाल कर पाएंगे।
सुगंधित धनियां लाए खुशहाली

सुगंधित धनियां लाए खुशहाली

धनियां मसालों और आमतौर पर हर घर में उपयोग में लाया जाता है। इसके पत्तों की महक किसी भी सब्जी के जायके में चार चांद लगाने का काम करती है। इसमें अनेक ओषधीय गुण भी हैं। इसके चलते इसकी खेती बेहद लाभकारी है। इसकी खेती देश के आधे से हिस्से में कम कहीं ज्यादा होती है। इसकी खेती के लिए भी बलुई दोमट मिट्टी अच्छी रहती है। बेहतर जल निकासी वाली जमीन में धनियां लगाया जाना उचित होता है। धनियां को कतर कर बेचना एवं जड़ सहित बेचने की प्रक्रिया मंडियों के अनुरूप अपनाएं। 

धनियां की किस्में

 

 वर्तमान दौर में किसी भी खेती के लिए उस इलाके के चिए संस्तुत किस्मों का चयन बेहद जरूरी है। राजस्थान के कोटा अदि में धनियां की अच्छी खेती होती है। वहां की किस्में भी कई गर्म इलाकों में बेहद अच्छी सुगंध और उत्पादन दानों दे रही हैं। इसके अलावा गुजरात धनियां 1 व 2, पंत धनियां 1, मोरोक्कन, सिमपो एस 33, ग्वालियर 5365, जवाहर 1, सीएस 6, आरसीआर 4, सिंधु, हरीतिमा, यूडी 20 साहित अनेक किस्में बाजार में मौजूद हैं। किसानों को सलाह दी जाती है कि वह किसी भी नई खेती को करने से पूर्व अपने जनपद के कृषि या उद्यान अधिकारी या कृषि विज्ञान केन्द्रों के विशेषज्ञों से संपर्क करें ताकि उन्हें उचित जानकारी प्राप्त हो सके।

धनियां की खेती के लिए जमीन की सिंचाई कर तैयार करें। इससे पूर्व सड़ी हुई गोबर की खाद खेत में जरूर डालें। धनियां की बिजाीई हेतु 5-5 मीटर की क्यारियां बना लें, जिससे पानी देने में और निराई-गुड़ाई का काम करने में आसानी रहे। 

बुवाई का समय

 

 धनिया की फसल के लिए अक्टुंबर से नवंबर तक बुवाई का उचित समय रहता है। बुवाई के समय अधिक तापमान रहने पर अंकुरण कम हो सकता है। बुवाई का निर्णय तापमान देख कर करें। क्षेत्रों में पला अधिक पड़ता है वहां धनिया की बुवाई ऐसे समय में न करें, जिस समय फसल को अधिक नुकसान हो।

ये भी पढ़ें:
नींबू, भिंडीऔर धनिया पत्ती की कीमतों में अच्छा खासा उछाल आया है

बीजदर व बीजोपचार

 

 धनियां का 15 से 20 किलोग्राम बीज पर्याप्त होता है। बीजोपचार के लिए दो ग्राम कार्बेंडाजिम प्रति किलो बीज की दर से उपचारित करें। बुवाई से पहले दाने को दो भागों में तोड़ देना चाहिए। ऐसा करते समय ध्यान दे अंकुरण भाग नष्ट न होने पाए और अच्छे अंकुरण के लिए बीज को 12 से 24 घंटे पानी में भिगो कर हल्का सूखने पर बीज उपचार करके बोएं। सिंचित फसल में बीजों को 1.5 से 2 सेमी. गहराई पर बोना चाहिए, क्योंकि ज्यादा गहरा बोने से सिंचाई करने पर बीज पर मोटी परत जम जाती हैं, जिससे बीजों का अंकुरण ठीक से नहीं हो पाता हैं।

खरपतवार नियंत्रण

धनिये में शुरूआती बढ़वार धीमी गति से होती हैं इसलिए निराई-गुड़ाई करके खरपतवारों को निकलना चाहिए। सामान्यतः धनिये में दो निराई-गुड़ाई पर्याप्त होती है। पहली निराई-गुड़ाई के 30-35 दिन पर व दूसरी 60 दिन पर अवश्य करेंं। खरपतवार नियंत्रण के लिए पेन्डीमिथालीन 1 लीटर प्रति हेक्टेयर 600 लीटर पानी में मिलाकर अंकुरण से पहले छिड़काव करें। ध्यान रखें कि छिड़काव के समय भूमि में पर्याप्त नमी होनी चाहिए और छिड़काव शाम के समय करें।

जानिए कैसे की जाती है धनिया की खेती? ये किस्में देंगी अधिक उत्पादन

जानिए कैसे की जाती है धनिया की खेती? ये किस्में देंगी अधिक उत्पादन

किसान भाइयों हमेशा आपको अपनी लागत के मुकाबले कम ही लाभ मिल पाता है, ऐसे में आप किसी भी फसल का उत्पादन करने से पहले इससे जुड़ी थोड़ी जानकारी प्राप्त कर ले ताकि आप इसका भरपूर लाभ उठा सके। आप चाहे तो धनिया की खेती करके कम लागत में अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। धनिया के बगैर भारतीय भोजन अधूरा माना जाता है। यह एक बहुत उपयोगी मसाला है जिसका उपयोग भारत की लगभग हर रसोई में किया जाता है। धनिया का इस्तेमाल खाने को सुगंधित बनाने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी बनाता है। कुछ लोग धनिया की चटनी का भी सेवन करते हैं जो काफी स्वादिष्ट होती है। ऐसे में धनिया की मार्केट में भी अधिक मांग है। बता दें, धनिया की खेती मध्य प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पंजाब, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में सबसे ज्यादा की जाती है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि, आप धनिया की खेती किस तरह से कर सकते हैं और धनिया की खेती करने के क्या फायदे हैं।

धनिया का परिचय

बता दें, विश्व भर में भारत देश को '
मसालों की भूमि' के नाम से पहचाना जाता है। ऐसे में धनिया भी एक मसाला है जिसकी मांग दुनिया भर में है। धनिया के बीज औषधीय गुण के रूप में भी जाने जाते हैं। धनिया के बीज और पत्तियां भोजन को स्वादिष्ट और सुगंधित बनाने का काम करती है।

धनिया की खेती करने के लिए सही जगह

धनिया की खेती धनिया की खेती करना काफी सरल है क्योंकि यह किसी भी मिट्टी में पैदा हो सकता है। यदि खेती में जैविक खाद का उपयोग किया जाता है तो ऐसे में दोमट भूमि धनिया के लिए अच्छी मानी जाती है। वहीं असिंचित फसल के लिए काली मिट्टी भी सही रहती है। बता दे, धनिया लवणीय और क्षारीय मिट्टी भूमि को सहन नहीं कर पाता है। ऐसे में आप अच्छे जल निकास एवं उर्वरा शक्ति वाली भूमि का इस्तेमाल करें।

धनिया की बुवाई के लिए करें भूमि की सही तैयारी

धनिया की अच्छी पैदावार के लिए आपको सबसे पहले भूमि की अच्छी तैयारी करनी चाहिए। बता दें, अच्छी फसल के लिए आप जुताई से पहले 5-10 टन प्रति हेक्टेयर गोबर की खाद खेत में डालें। आप चाहे तो 5-5 मीटर की क्यारियां बना लें, ऐसा करने से बीज में पानी देने में आसानी होगी। साथ ही निराई-गुड़ाई करने में भी आसानी होगी।

ये भी पढ़ें:
धनिया की खेती से होने वाले फायदे

धनिया की खेती करने के लिए जलवायु

धनिया की खेती शुष्क और ठंडे मौसम में अच्छी मानी जाती है। इसके अलावा बीज को अंकुरित करने के लिए 25-26 सेंटीग्रेड तापमान सही होता है। बता दें, धनिया शीतोष्ण जलवायु की फसल होती है जिसके कारण फूल और दाना बनने की अवस्था पर पाला रहित मौसम की जरूरत होती है। दरअसल पाला से धनिया को नुकसान हो सकता है ऐसे में आप पाला रहित धनिया की खेती करें। अच्छी गुणवत्ता वाले धनिया को प्राप्त करने के लिए ठंडी जलवायु और तेज धूप साथ ही समुद्र से अधिक ऊंचाई भूमि की जरूरत होती है।

कितने होते हैं धनिया बीज के प्रकार?

  • हिसार आनंद

इस बीज में कई शाखाएं निकलती है और यह अधिक झाड़ियों का निर्माण करता है। यह थोड़ी मध्यम पछेती किस्म है। इसके पौधे के तने का रंग हल्का बैंगनी होता है हालांकि बदलते समय के अनुसार इसके पत्ते और बीज के रंग में हल्का परिवर्तन हो जाता है। इसके गुच्छे थोड़े मोटे दाने वाले होते हैं और दाने का रंग भूरा और हरा होता है। यह बीज अधिक उपज देने वाला बीज है।
  • पंत हरितमा

इस किस्म के बीज के पौधे नीचे जमीन में फैले रहते हैं। इसके दानों का आकार छोटा और रंग भूरा होता है। इस किस्म की सबसे खास बात यह है कि, इसके उपज में दो कटाई की जा सकती हैं। इसके अलावा इस बीज की पैदावार भी अधिक होती है।
  • नारनौल सलेक्शन

इस किस्म के बीज की भी अधिक शाखाएं होती है। इस किस्म के धनिया के दाने बाकी किस्म से थोड़े बड़े आकार के होते हैं और इनका रंग हल्का भूरा होता है। यह किस्म कम समय में धनिया की अधिक उपज देती है।

धनिया बोने की सही प्रक्रिया

जानिए कैसे की जाती है धनिया की खेती: ये किस्में देंगी अधिक उत्पादन और मनचाहा मिलेगा मुनाफा
  • धनिया की फसल रबी मौसम में की जाती है।
  • धनिया की फसल करने के लिए सबसे अच्छा समय 15 अक्टूबर से 15 नवंबर तक का है।
  • धनिया की हरी पत्तियों की फसल करने के लिए अक्टूबर से दिसंबर का समय सबसे सही है, जबकि इसके दाने की फसल के लिए सबसे सही समय नवंबर का प्रथम सप्ताह है।
  • इसके अलावा पाला से बचाने के लिए धनिया को नवंबर के द्वितीय सप्ताह में बोना सबसे सही समय है।

धनिया बीज की मात्रा

धनिया की अच्छी फसल प्राप्त करने के लिए आपको करीब 15 से 20 किलोग्राम बीज पर्याप्त होता है। धनिया को बोने से पहले इसके बीज यानी दानों को दो भागों में तोड़ लेना चाहिए। तोड़ने के वक्त ध्यान दें कि, बीज का अंकुरण भाग नष्ट न हो। अच्छी फसल की पैदावार करने के लिए बीज को करीब 12 से 24 घंटे पानी में भिगोकर रख दें और इसे कुछ देर धूप में सुखाएं। अच्छी तरह बीज सूखने पर इसकी मिट्टी में बुवाई करें।

धनिया की सिंचाई करने के लिए सही प्रक्रिया

  • धनिया की बुवाई करने के दसवें दिन सबसे पहले पानी और जैविक खाद डालते हैं।
  • इसके बाद दूसरा पानी करीब 20 दिन के आसपास डाला जाता है, इसके साथ ही आप 35 से 40 किलो डीएपी डाल सकते हैं।
  • यदि तापमान स्तर कम है तो आप 25 दिन के अंदर 250 से 300 ग्राम यूरिया का छिड़काव कर दें।
  • बता दें, 16 लीटर पानी में 100 ग्राम यूरिया डाला जाता है और बीघे भर की जमीन में तीन टंकी का छिड़काव करें, इससे धनिया की उपज में लाभ होगा।
  • यदि गर्मी बहुत तेज है तो आप हफ्ते में दो बार धनिया की फसल में पानी दे।
  • आप जिस दिन भी धनिया की बुवाई करें इसके ठीक 20 दिन बाद इसका बीज मिट्टी से बाहर आता है।


ये भी पढ़ें:
Dhania ki katai (धनिया की कटाई)

कैसे करें धनिया का खरपतवार से बचाव?

  • धनिया के साथ-साथ उगे खरपतवार इसके ऊपर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं जिससे धनिया की सही पैदावार नहीं हो पाती है।
  • धनिया की सही और अधिक उपज के लिए आप समय-समय पर इसकी निराई-गुड़ाई करते रहे।
  • धनिया की बुवाई के करीब 40 दिन बाद पौधे जब 7 से 8 सेंटीमीटर ऊंचे हो जाए तब इसकी निराई-गुड़ाई कर दें।
  • निराई -गुड़ाई करने से धनिया के साथ उगा हुआ खरपतवार आसानी से निकल जाता है और धनिया पूरी तरह से सुरक्षित रहता है।
  • धनिया की बुवाई पंक्तियों के रूप में करें।
  • इसके अलावा बीज को मिट्टी में 2 से 4 सेंटीमीटर तक ही रखें, यदि आप इसको अधिक गहराई में बोते हैं तो इसका सही तरह से अंकुरण नहीं होता है और यह जमीन के अंदर ही सड़ जाता है।

कब करें धनिया की फसल की कटाई?

धनिया की कटाई तब की जाती है जब इसकी पत्तियां पीली और इसके बीज यानी कि डोडी का रंग थोड़ा चमकीला भूरा या पीला होने लगे। ध्यान रखें कि, इसके दानों में लगभग 18% नमी हो, इसी दौरान फसल कटाई करने से बीज अच्छा रहता है। दरअसल नमी के कारण बीज झड़ता नहीं है और यह आसानी से कट जाता है। यदि आप धनिया की फसल की कटाई समय पर नहीं करते हैं तो इसके दानों का रंग खराब होने लगता है, ऐसे में आप समय पर ही इसकी कटाई कर ले। धनिया की कटाई करने के बाद आप इसके छोटे-छोटे बंडल बना दें और इन बंडलो को आप 1 से 2 दिन खेत में ही खुली धूप में सुखाएं।

ये भी पढ़ें:
नींबू, भिंडी और धनिया पत्ती की कीमतों में अच्छा खासा उछाल आया है

कितनी होती है धनिया की पैदावार?

धनिया की पैदावार आपकी सही देखभाल, किस्म और मौसम के ऊपर निर्भर करती है। यदि आप अच्छी किस्म के धनिया का उत्पादन करते हैं तो आप इसमें अधिक लाभ कमा सकते हैं। जबकि धनिया की खेती वैज्ञानिक तकनीक से करते हैं तो सिंचित फसल से लगभग आपको 15 से 20 क्विंटल बीज प्राप्त होगा जबकि असिंचित फसल से 7 से 9 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज प्राप्त हो सकती हैं।

धनिया की फसल से कितना मिलेगा लाभ?

धनिया की फसल एक ऐसी फसल है जिससे आप अपने अनुसार लाभ कमा सकते हैं। आप चाहे तो सूखा धनिया मंडी में बेचकर इससे मुनाफा कमा सकते हैं। इसके अलावा आप चाहे तो इसका पाउडर भी मार्केट में बेच सकते हैं। बता दें यदि आपके द्वारा पैदा किए गए धनिया की क्वालिटी अच्छी है तो शुद्ध धनिया पाउडर खरीदने के लिए कोई भी व्यक्ति एडवांस तक देने के लिए तैयार रहता है। ऐसे में आप होलसेल या रिटेल में भी इसको बेचकर बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं। यदि आप धनिया की हरी पत्तियों की बिक्री करते हैं तो इससे भी आप मनचाही इनकम कर सकते हैं। हरे धनिया की बिक्री एक नकदी फसल होगी जिसे आपको हाथों-हाथ लाभ प्राप्त होगा। आप चाहे तो धनिया की बिक्री ऑनलाइन के माध्यम से भी कर सकते हैं। ऑनलाइन के माध्यम से धनिया की बिक्री करने से आप कम समय में अधिक से अधिक लोगों से जुड़ पाएंगे। यदि आप धनिया को ऑनलाइन बेचना चाहते हैं तो फ्लिपकार्ट, बिग बास्केट, अमेज़न और इंडियामार्ट जैसी कंपनी से संपर्क करके इनसे डील कर सकते हैं। आप ऑनलाइन के माध्यम से कम समय में अपनी फसल को अधिक लोगों तक पहुंचा पाएंगे।
बीजीय मसाले की खेती में मुनाफा ही मुनाफा

बीजीय मसाले की खेती में मुनाफा ही मुनाफा

कहते हैं, मसालों की खोज सबसे पहले भारत में ही हुई, भारत से ही मसाले दुनिया भर में फैले। ये ऐसे मसाले हैं, जिनकी खुशबू से ही लोगों के चेहरे खिल उठते हैं। आपने पढ़ा ही होगा कि मसाले बेच कर एक तांगावाला इस देश में मसाला किंग के नाम से फेमस हो गया।
ये भी पढ़े: मसालों के लिए सबसे बेहतरीन पतली मिर्च की सर्वश्रेष्ठ किस्में [Chili pepper varieties best for spices]
मसाले हर किसी को भाते हैं, किसी को ज्यादा, किसी को कम। मसालों की खेती विदेशी पूंजी को भारत में लाने का एक बड़ा जरिया है। हमारे यहां जो मसाले तैयार होते हैं, उनकी विदेशों में जबरदस्त डिमांड है। दुनिया का शायद ही कोई देश ऐसा हो, जहां मसालों की खपत हो और वे भारतीय मसाला नहीं खाते हों। भारतीय मसालों का डंका हर तरफ बज रहा है, ये आज से नहीं सैकड़ों सालों से है।

रायपुर में शोध

रायपुर स्थित कृषि विश्वविद्यालय में इन दिनों बीजीय मसालों (seed spices) पर शोध चल रहा है। दर्जनों शोधार्थी बीजीय मसालों पर शोध कर रहे हैं, वो एक नए मसाले की तलाश में हैं। वो हींग, मेथी, जीरा, जायफल, धनिया, सरसों के इतर कुछ ऐसे बीजीय मसालों की तलाश में हैं, जो सबसे अलग हो। मजे की बात यह है कि इन बीजीय मसालों को ही कॉकटेल कर वे कोई नया मसाला तैयार करने की नहीं सोच रहे हैं। वो सच में कुछ नया करना चाह रहे हैं, यही कारण है कि पिछले 9-10 महीनों से वो शोध कर रहे हैं। लेकिन अभी तक किसी परिणाम पर नहीं पहुंचे हैं, शोध जारी है।

भारत है नंबर 1

आपको पता ही होगा कि भारत मसाला उत्पादन में विश्व में प्रथम स्थान पर है। भारत को तो मसालों की भूमि के नाम से भी जाना जाता है, इन मसालों के औषयधी गुणों के कारण देश-दुनिया में इनकी डिमांड निरंतर बढ़ती जा रही है। दुनिया भर के व्यापारी हमारे देश में आते हैं, भारत के नक्शे को देखें तो जम्मू-कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक विभिन्न प्रकार के मसालों का उत्पादन होता है। इन सभी मसालों का अपना अलग मिजाज है, कोई बीमारी में काम आता है तो कोई रोगों से लड़ने की ताकत देता है। तो कोई स्वाद को बहुत ज्यादा बढ़ा देता है, तो कोई मसाला ऐसा भी होता है जो आपकी पाचन क्रिया को दुरुस्त कर देता है। इन मसालों के रहते अब नए मसालों की खोज इसलिए की जा रही है ताकि चार मसालों के स्थान पर एक ही मसाला भोजन में डाला जाए और उसका कोई साइड इफेक्ट न हो।
ये भी पढ़े: Natural Farming: प्राकृतिक खेती के लिए ये है मोदी सरकार का प्लान

परंपरागत मसाले

अगर बात करें मुख्य बीजीय मसाले की तो वो परंपरागत हैं। जैसे जीरा, धनिया, मेथी, सौंफ, अजवायन, सोवा, कलौंजी, एनाइस, सेलेरी, सरसों तथा स्याहजीरा। इन सभी की खेती देश के उन इलाकों में की जाती है, जहां इनके लायक मौसम बढ़िया होता है। दरअसल, बीजीय मसाले अर्धशुष्क और शुष्क इलाकों में ही उगाए जा सकते हैं। जहां बहुत ज्यादा गर्मी होगी या बहुत ज्यादा ठंड पड़ती हो, वहां मसाले नहीं उगाए जा सकते। फसल ही चौपट हो जाएगी, दरअसल शुष्क व अर्धशुष्क क्षेत्रों में जल की कमी होती है और जो उपलब्ध भूजल होता है, वह सामान्यतः लवणीय होता है। आपको पता ही होगा कि बीजीय मसाला फसलों को धान या गेहूं अथवा मक्के की तरह पानी की जरूरत नहीं होती। इनका काम कम जल में भी चल जाता है।
ये भी पढ़े: आईपीएफटी ने बीज वाले मसाले की फसलों में ​कीट नियंत्रण के लिए रासायनिक कीटनाशकों के सुरक्षित विकल्प के रूप में जैव-कीटनाशक विकसित किया

अनुदान की योजना

सरकार उन इलाकों में, जहां भूजल कम है, बीजीय मसाले की खेती करने वाले किसानों को अनुदान भी देने की योजना बना रही है। हालांकि, ये हार्ड कोर कैश क्राप्स हैं, ये तैयार होते ही बिक जाते हैं और देश-विदेश से इनके ग्राहक भी आते हैं। आपको बता दें कि भारत में जिन मसालों का उत्पादन होता है, वे सबसे ज्यादा मात्रा में अमेरिका, जापान, कनाडा, आस्ट्रेलिया और यूरोपीय देशों में निर्यात होता है। यहां से ठीक-ठाक विदेशी मुद्रा भी आ जाती है। अगर आप भी बीजीय मसालों की खेती करना चाहते हैं, तो पूरे पैटर्न को समझ लें। इस खेती में पैसे तो हैं पर रिस्क भी कम नहीं है, उस रिस्क को अगर आप सहन कर सकते हैं, तो बीजीय मसालों की खेती में बहुत पैसा है और आप उससे मुनाफा कमा सकते हैं।
इस तकनीक के जरिये किसान एक एकड़ जमीन से कमा सकते है लाखों का मुनाफा

इस तकनीक के जरिये किसान एक एकड़ जमीन से कमा सकते है लाखों का मुनाफा

भारत के बहुत सारे किसानों पर कृषि हेतु भूमि बहुत कम है। उस थोड़ी सी भूमि पर भी वह पहले से चली आ रही खेती को ही करते हैं, जिसे हम पारंपरिक खेती के नाम से जानते हैं। लेकिन इस प्रकार से खेती करके जीवन यापन भी करना एक चुनौतीपूर्ण हो जाता है। परन्तु आज के समय में किसान स्मार्ट तरीकों की सहायता से 1 एकड़ जमीन से 1 लाख रूपये तक की आय अर्जित कर सकते हैं। वर्तमान में प्रत्येक व्यवसाय में लाभ देखने को मिलता है। कृषि विश्व का सबसे प्राचीन व्यवसाय है, जो कि वर्तमान में भी अपनी अच्छी पहचान और दबदबा रखता है। हालाँकि, कृषि थोड़े समय तक केवल किसानों की खाद्यान आपूर्ति का इकलौता साधन था। लेकिन वर्त्तमान समय में किसानों ने सूझ-बूझ व समझदारी से सफलता प्राप्त कर ली है। आजकल फसल उत्पादन के तरीकों, विधियों एवं तकनीकों में काफी परिवर्तन हुआ है। किसान आज के समय में एक दूसरे के साथ सामंजस्य बनाकर खेती किसानी को नई उचाईयों पर ले जाने का कार्य कर रहे हैं। आश्चर्यचकित होने वाली यह बात है, कि किसी समय पर एक एकड़ भूमि से किसानों द्वारा मात्र आजीविका हेतु आय हो पाती थी, आज वही किसान एक एकड़ भूमि से बेहतर तकनीक एवं अच्छी फसल चयन की वजह से लाखों का मुनाफा कमा सकता है। यदि आप भी कृषि से अच्छा खासा मुनाफा कमाना चाहते हैं, तो आपको भूमि पर एक साथ कई सारी फसलों की खेती करनी होगी। सरकार द्वारा भी किसानों की हर संभव सहायता की जा रही है। किसानों को आर्थिक मदद से लेकर प्रशिक्षण देने तक सरकार उनकी सहायता कर रही है।

वृक्ष उत्पादन

किसान पेड़ की खेती करके अच्छा खासा लाभ अर्जित कर सकते हैं। लेकिन उसके लिए किसानों को अपनी एकड़ भूमि की बाडबंदी करनी अत्यंत आवश्यक है। जिससे कि फसल को जंगली जानवरों की वजह से होने वाली हानि का सामना ना करना पड़े। पेड़ की खेती करते समय किसान अच्छी आमदनी देने वाले वृक्ष जैसे महानीम, चन्दन, महोगनी, खजूर, पोपलर, शीशम, सांगवान आदि के पेड़ों का उत्पादन कर सकते हैं। बतादें, कि इन समस्त पेड़ों को बड़ा होने में काफी वर्ष लग जाते हैं। किसान भूमि की मृदा एवं तापमान अनुरूप फलदार वृक्ष का भी उत्पादन कर सकते हैं। फलदार वृक्षों से फल उत्पादन कर अच्छी कमाई की जा सकती है।

पशुपालन

पेड़ लगाने के व खेत की बाडबंदी के उपरांत सर्वप्रथम गाय या भैंस की बेहतर व्यवस्था करें। क्योंकि गाय व भैंस के दूध को बाजार में बेचकर अच्छा मुनाफा कमाया जाता है। साथ ही, इन पशुओं के गोबर से किसान अपनी फसल से अच्छी पैदावार लेने के लिए खाद की व्यवस्था भी कर सकते हैं। किसान चाहें तो पेड़ उत्पादन सहित खेत के सहारे-सहारे पशुओं हेतु चारा उत्पादन भी कर सकते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि बहुत से पशु एक दिन के अंदर 70-80 लीटर तक दूध प्रदान करते हैं। किसान बाजार में दूध को विक्रय कर प्रतिमाह हजारों की आय कर सकते हैं।


ये भी पढ़ें:
इस योजना से मिलेगा इतने लाख लोगों को रोजगार का अवसर 50 प्रतिशत अनुदान भी

मौसमी सब्जियां

किसान अपनी एक एकड़ भूमि का कुछ भाग मौसमी सब्जियों का मिश्रित उत्पादन कर सकते हैं। यदि किसान चाहें तो वर्षभर मांग में रहने वाली सब्जियां जैसे कि अदरक, फूलगोभी, टमाटर से लेकर मिर्च, धनिया, बैंगन, आलू , पत्तागोभी, पालक, मेथी और बथुआ जैसी पत्तेदार सब्जियों का भी उत्पादन कर सकते हैं। इन सब सब्जियों की बाजार में अच्छी मांग होने की वजह से तीव्रता से बिक जाती हैं। साथ इन सब्जिओं की पैदावार भी किसान बार बार कटाई करके प्राप्त हैं। किसान आधा एकड़ भूमि में पॉलीहाउस के जरिये इन सब्जियों से उत्पादन ले सकते हैं।

अनाज, दाल एवं तिलहन का उत्पादन

देश में प्रत्येक सीजन में अनाज, दाल एवं तिलहन का उत्पादन किया जाता है, सर्वाधिक दाल उत्पादन खरीफ सीजन में किया जाता हैं। बाजरा, चावल एवं मक्का का उत्पादन किया जाता है, वहीं रबी सीजन के दौरान सरसों, गेहूं इत्यादि फसलों का उत्पादन किया जाता है। इसी प्रकार से फसल चक्र के अनुसार प्रत्येक सीजन में अनाज, दलहन अथवा तिलहन का उत्पादन किया जाता है। किसान इन तीनों फसलों में से किसी भी एक फसल का उत्पादन करके 4 से 5 माह के अंतर्गत अच्छा खासा लाभ अर्जित कर सकते हैं।

सोलर पैनल

आजकल देश में सौर ऊर्जा के उपयोग में वृध्दि देखने को मिल रही है। बतादें, कि बहुत सारी राज्य सरकारें तो किसानों को सोलर पैनल लगाने हेतु धन प्रदान कर रही हैं। सोलर पैनल की वजह से किसानों को बिजली एवं सिंचाई में होने वाले खर्च से बचाया जा सकता है। साथ ही, सौर ऊर्जा से उत्पन्न विघुत के उत्पादन का बाजार में विक्रय कर लाभ अर्जित किया जा सकता है। जो कि प्रति माह किसानों की अतिरिक्त आय का साधन बनेगी। विषेशज्ञों द्वारा किये गए बहुत सारे शोधों में ऐसा पाया गया है, सोलर पैनल के नीचे रिक्त स्थान पर सुगमता से कम खर्च में बेहतर सब्जियों का उत्पादन किया जा सकता है।
जानें किस वजह से धनिया के भाव में हुई 36 रुपए की बढ़ोत्तरी, फिलहाल क्या हैं मंडी भाव

जानें किस वजह से धनिया के भाव में हुई 36 रुपए की बढ़ोत्तरी, फिलहाल क्या हैं मंडी भाव

जानकारों ने बताया है, कि फिलहाल बाजार में मजबूती के रुख और उत्पादक क्षेत्रों से सीमित आपूर्ति की वजह से विशेष रूप से धनिया वायदा भावों में वृद्धि हुई है । वर्तमान बाजार में मजबूती के रुख के चलते हुए सटोरियों ने अपने सौदों का आकार बढ़ाने से वायदा कारोबार में सोमवार को धनिया की कीमत 36 रुपये की वृद्धि के साथ 6,942 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंचा दिया है । एनसीडीईएक्स में धनिया के अप्रैल माह में आपूर्ति वाले अनुबंध का मूल्य 36 रुपये या 0.52 फीसद की वृद्धि के साथ 6,942 रुपये प्रति क्विंटल पहुंच गया है । इसमें 11,095 लॉट के लिए कारोबार हुआ है । बाजार जानकारों ने बताया है, कि हाजिर बाजार में मजबूती के रुख तथा उत्पादक क्षेत्रों से सीमित आपूर्ति की वजह मुख्यत: धनिया वायदा कीमतों में वृद्धि हुई है । साथ ही, इंदौर में मौजूद स्थानीय खाद्य तेल बाजार में सोमवार को पाम तेल की कीमत में पांच रुपये प्रति 10 किलोग्राम की गिरावट शनिवार की तुलना में हुई है। आज सरसों 100 रुपये प्रति क्विंटल सस्ती बेची गई है ।

तिलहन की मंडी में कितनी कीमत है

  • सरसों (निमाड़ी) 5800 से 5900 रुपये प्रति क्विंटल ।
  • सोयाबीन 4800 से 5400 रुपये प्रति क्विंटल ।

तेल

  • मूंगफली तेल 1690 से 1700 रुपये प्रति 10 किलोग्राम ।
  • सोयाबीन रिफाइंड तेल 1105 से 1110 रुपये प्रति 10 किलोग्राम ।
  • सोयाबीन साल्वेंट 1075 से 1080 रुपये प्रति 10 किलोग्राम ।
  • पाम तेल 1025 से 1030 रुपये प्रति 10 किलोग्राम ।


ये भी पढ़ें:
खाद्य तेल विक्रेताओं के लिए बड़ी राहत, स्टॉक सीमा में मिली भारी छूट

कपास्या खली

  • कपास्या खली इंदौर 1800 60 किलोग्राम बोरी ।
  • कपास्या खली देवास 1800 60 किलोग्राम बोरी ।
  • कपास्या खली खंडवा 1775 60 किलोग्राम बोरी ।
  • कपास्या खली बुरहानपुर 1775 रुपये प्रति 60 किलोग्राम बोरी ।
  • कपास्या खली अकोला 2700 रुपये प्रति क्विंटल ।
इस राज्य के किसान ने जैविक विधि से खेती कर कमाए लाखों अन्य किसानों के लिए भी बने मिशाल

इस राज्य के किसान ने जैविक विधि से खेती कर कमाए लाखों अन्य किसानों के लिए भी बने मिशाल

पंजाब के किसान तरसेम सिंह ने अपने छोटे से खेत में सब्जियों की खेती चालू की थी। आज के समय में उनकी उगाई सब्जियां पंजाब के बड़े शहरों में बिक रही हैं। पंजाब राज्य के जालंधर जनपद के अंतर्गत एक काहलवां गाँव पड़ता है। यहां के एक किसान तरसेम सिंह ने अपनी कड़ी मेहनत से सिद्ध करके दिखाया है, कि सब्जियों एवं बागवानी के जरिए से अपनी किस्मत बदली जा सकती है। ऐसे में हम आपको इस किसान के विषय में बताऐंगे और समझने का प्रयास करेंगे कि कैसे इस आधुनिक युग में कम खेत से सब्जियों की खेती और बागवानी की जा सकती है।

किसान तरसेम पूर्णतय जैविक खेती करते हैं

बतादें, कि किसान तरसेम सिंह विगत कई वर्षों से सब्जियों एवं फलों की सफलतापूर्वक खेती कर रहे हैं। वह प्रति वर्ष अपने खेतों में मौसमी सब्जियों की खेती करते हैं, जिसमें वह मुख्य रूप से पालक, आलू, तोरी, भिंडी, साग और धनिया आदि शम्मिलित है। तरसेम सिंह अपनी सब्जी की खेती में किसी भी प्रकार के कीटनाशक का इस्तेमाल नहीं करते हैं। वह सिर्फ स्थानीय खाद और किसानों से मिले खाद का इस्तेमाल करते हैं। वह खेती किसानी का समस्त कार्य खुद से ही करते हैं, जिससे उनका खेती की लागत भी कम हो जाती है। ये भी पढ़े: जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए इतने रुपये का अनुदान दे रही है ये राज्य सरकार किसान तरसेम सिंह सब्जी की खेती के अतिरिक्त बागवानी भी करते हैं। उन्होंने अपने खेतों में आलू-बुखारा, नींबू, आम और लीची के वृक्ष रोपे हैं, जिनसे उन्हें प्रति वर्ष मौसमी फल मिलते हैं। ये फल उनकी आमदनी को और ज्यादा बढ़ा देते हैं।

बागवानी किसान तरसेम ने अपनी सब्जियों व फलों को बेचने को लेकर क्या कहा है

तरसेम का कहना है, कि वह कादी शहर में अपनी सब्जियों और फलों को स्वयं बेचते हैं। उनका कहना है, कि आज कल की खेती पूर्णतय रासायनिक उर्वरकों पर आश्रित हो गई है। लोग इससे बचने के उपाय भी खोज रहे हैं। ऐसे में उनकी सब्जियां जैविक ढ़ंग से पैदा की गई हैं, जिसे लोग ज्यादा भाव भी देकर खरीद रहे हैं। तरसेम सिंह किसान प्रशिक्षण शिविरों, किसान मेलों और अन्य कार्यक्रमों के दौरान भी अपनी उपज को अच्छी कीमतों पर बेचते हैं। किसान तरसेम सिंह ने लघु कृषकों को कहा है, कि सब्जी एवं फल का उत्पादन उनके लिए एक बेहतर विकल्प है। छोटे किसानों को कम जमीन से ज्यादा आय अर्जित करने के लिए सब्जी और बागवानी को अवश्य अपनाना चाहिए।
आप अपने बगीचे के अंदर इन महकते मसालों के पौधे उगाकर अपनी रसोई में उपयोग कर सकते हैं

आप अपने बगीचे के अंदर इन महकते मसालों के पौधे उगाकर अपनी रसोई में उपयोग कर सकते हैं

आपने मसालों की खेती के विषय में तो काफी सुना होगा। परंतु, आज हम आपको इन्हीं में से कुछ चुनिन्दा मसालों को अपने बगीचे में लगाने के संबंध में बताने वाले हैं। चलिए आपको आगे इस लेख में बताऐंगे कि किन मसाला पौधों का इस्तेमाल घर के बगीचे में किया जा सकता है। आज हम आपको बागवानी के कुछ ऐसे विशेष टिप्स बताने जा रहे हैं, जो आपके इस शौक को और भी ज्यादा बढ़ा देंगे। बिल्कुल, यदि आपको भी बागवानी का शौक है और आप भी कुछ विशेष पौधों को अपने बगीचे की शान बनाना चाहते हैं, तो आपको मसालों की दुनिया में भी एक कदम रखना चाहिए। जो आपके बगीचे को तो सुगंधित करेंगे। साथ ही, आपके स्वाद को भी खूब बढ़ाएंगे। चलिए जानते हैं, कि किन मसाला पौधों को हम अपने बगीचे में उगा सकते हैं।

मिर्च एवं शिमला मिर्च के पौधे

मिर्च हो अथवा शिमला मिर्च दोनों ही हमारे बगीचे में ऐसे मसाले का कार्य करते हैं, जो कम जगह में अधिक पैदावार देने में सक्षम होते हैं। इतना ही नहीं मिर्च ही एक ऐसा मसाला है, जो खाने को सबसे अधिक स्वादिष्ट बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

धनिया के पौधे

यदि आप अपने बगीचे को खुशबू से महकाना चाहते हैं, तो धनिया के पौधे इस दिशा में काफी महत्वपूर्ण होते हैं। आप इस पौधे का इस्तेमाल मसाले और पत्तियों दोनों प्रकार से कर सकते हैं। आप इसे जरा सी जगह में ज्यादा मात्रा में पैदा कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:
धनिया की खेती से होने वाले फायदे

सरसों के पौधे

आम तौर पर इस पौधे का इस्तेमाल हम खाने के तेल के स्वरूप में करते हैं। परंतु, इसका इस्तेमाल मसाला के तौर पर भी किया जाता है। आज हम विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट पकवानों को निर्मित करने के लिए सरसों के बीजों का इस्तेमाल करते हैं। आप मसाले के उपयोग के लिए इन्हें घर में भी पैदा कर सकते हैं। आरंभिक दिनों में यह पौधे फूलों और बाद में यह मसाले के तौर पर कार्य करते हैं।

अदरक के पौधे

अदरक एक ऐसा पौधा है, जिसके अंदर काफी ज्यादा औषधीय गुण मौजूद होते हैं। हम अदरक का इस्तेमाल सब्जी के मसाले के तौर पर करने के साथ-साथ अन्य भी विभिन्न उपयोगी कामों में भी करते हैं। यदि आप पौधों को अपने घर में लगाना पसंद करते हैं, तो आपको भी इन पौधों को एक बार अवश्य होम गार्डनिंग में शम्मिलित करना चाहिए। अगर आपके समीप ज्यादा भूमि नहीं है, तो आप इन पौधों के लिए गमले अथवा घर की छत को भी बगीचे की भाँति उपयोग में ला सकते हैं।